हिंद महासागर में चीन और पकिस्तान की हरकतें शुरू

हैरानी की बात है, चीन अभी अभी कोरोना से पिट कर उठा है और पाकिस्तान अभी पिट रहा है - लेकिन रस्सी के जल जाने से उसकी ऐंठन नहीं जाती या ये कहें कि कुत्ते की पूंछ टेढ़ी की टेढ़ी रहती है. अब इन दोनों देशों की गतिविधियां हिन्द महासागर में देखी जाने लगी हैं जो पूरी तरह संदेहास्पद हैं..

हिंद महासागर में चीन और पकिस्तान की हरकतें शुरू

नई दिल्ली: भारतीय नौ सेना हिन्द महासागर में शुरू हुई इस चीनी और पाकिस्तानी गतिविधि से चौकस हो गई है. तुरंत ही हवाई सतर्कता भी बढ़ा दी गई है. कोरोना से पिटे ये दोनों देश अब लगता है भारत के हांथों भी पिटने की तैयारी कर रहे हैं. हालांकि ऐसा न ही हो तो अच्छा है क्योंकि भारत अभी कोरोना संक्रमण से लोहा लेने में लगा हुआ है.

चीन और पाक की नापाक हरकतें पकड़ाईं

चीन से निकले कोरोना से अभी भारत का युद्ध चल रहा है ऐसे में चीन की अप्रत्याशित हरकत से भारत को हैरानी हुई है. पकिस्तान के साथ मिल कर चीन की नापाक हरकतों को भारतीय नौसेना ने हिंद महासागर में पकड़ा है. चीन और पाकिस्तानी नौसेनाओं की संदिग्ध गतिविधियां देख कर भारतीय नेवी ने अपनी जलीय और वायु निगरानी बढ़ा दी है.

भारतीय नौसेना इन दोनों देशों की गतिविधियों पर नज़र रखने के लिए सैटेलाइट का भी सहारा लिया जा रहा है.

पीएनए यारमुक की मौजूदगी का पता चला

हिन्द महासागर जलक्षेत्र भारत के सामरिक दृष्टिकोण से बहुत संवेदनशील है. यहां भारतीय नौसेना को पाकिस्तानी नौसेना की पीएनए यारमुक की मौजूदगी का पता चला था. यह जलपोत रोमानिया से होकर  लाल सागर के रास्ते पाकिस्तान वापस आ रहा है. इसको देखने के बाद भारतीय नौसेना ने इस क्षेत्र में अपनी निगरानी बढ़ा दी है. इतना ही नहीं पूर्वी हिंद महासागर क्षेत्र में भारत को चीनी नौसेना के टाइप वाई901 क्लास के टैंकर की मौजूदगी दिखाई दी है. चीन के इस टैंकर को मलल्का जलडमरूमध्य से अंदर आते समय ही भारतीय नौसेना ने निगरानी में ले लिया था.

भारतीय नौसेना के सर्विलांस विमान सक्रिय

भारतीय नौसेना ने चीनी और पाकिस्तानी नौसेना की गतिविधि पर नजर पैनी कर ली है और इस के लिए खासतौर पर पी8आई सर्विलांस विमानों को भी खोजबीन के लिए सक्रीय कर दिया है. उधर जलक्षेत्र में तटरक्षक बल भी समुद्री सीमाओं पर चौकसी बनाए हुए हैं.

इसे भी पढ़ें: झूठा चीन छिपा रहा है आंकड़े, वहां 1.5 करोड़ लोगों के मरने की आशंका है!!

इसे भी पढ़ें: ऐसी भी क्या मजबूरी है, जो भारत में 21 दिनों का लॉकडाउन जरूरी है? जवाब जानिए