• भारत में कोरोना के अब तक 918 मामले सामने आए, अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है, 79 लोगों का सफल इलाज हुआ
  • कोरोना के सबसे ज्यादा मामले केरल और महाराष्ट्र में सामने आ रहे हैं, केरल में 167 और महाराष्ट्र में 186 लोग कोरोना प्रभावित
  • पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के 6,61,367 मामले सामने आ चुके हैं
  • कोरोना वायरस के कारण विश्व में अब तक 30,671 लोगों की मौत हो चुकी है, जबिक 1,41,464 लोग बचाए जा चुके हैं
  • कर्नाटक में कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या 76 पहुंच गई है. पिछले 22 घंटे में 12 नए मामले सामने आए हैं
  • उत्तर प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल 61 मामले, शनिवार को 11 मामले सामने आए जिसमें सबसे ज्यादा 9 मामले नोएडा में दिखे
  • महाराष्ट्र में कोराना वायरस के 9 नए मामले, मुंबई में 8 और नागपुर में 1 नया मरीज, कुल मामले 167 हुए
  • कोरोना वायरस से अबतक महाराष्ट्र में 5, गुजरात में 3, कर्नाटक में 2, मध्य प्रदेश में 2 लोगों की मौत हो चुकी है
  • तमिलनाडु, बिहार, पंजाब, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, कश्मीर और हिमाचल में एक-एक मौतें हो चुकी हैं.

पर्यावरण की दीवानी ग्रेटा हुई कोरोना से आतंकित

स्वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग  जिसके क्लाइमेट चेंज पर शुरू किये आंदोलन को अन्तरराष्ट्रीय ख्यति मिली है, कोरोना के भी से ग्रस्त नज़र आ रही हैं. उन्हें लगता है कि उनको कोरोना वायरस संक्रमण हो गया है..

पर्यावरण की दीवानी ग्रेटा हुई कोरोना से आतंकित

नई दिल्ली: प्रकृति के प्रति बेहद संवेदनशील सत्रह वर्षीया ग्रेटा थनबर्ग अपने जीवन में भी बहुत संवेदनशील हैं. इसी मानवीय संवेदनशीलता ने उन्हें वो बनाया है जो वे आज हैं अर्थात दुनिया में ख्यातिप्राप्त पर्यावरणविद ग्रेटा थनबर्ग की संवेदनशीलता ही उनके व्यक्तित्व का सर्वोत्तम गुण है. पर यही संवेदनशीलता उन्हें आज कोरोना के प्रति कमज़ोर बना रही है. दुनिया भर में फ़ैल गए कोरोना को देख कर अब ग्रेटा को भी लगने लगा है कि उनको कोरोना संक्रमण हो गया है.

आइसोलेट किया खुद को ग्रेटा ने

ग्रेटा थनबर्ग का वक्तव्य तुरंत मीडिया की सुर्खियां बन गया जब उन्होंने कहा कि मुझे लग रहा है जैसे मैं भी कोरोना वायरस से संक्रमित हूं. अब इसके बाद ग्रेटा ने अपनेआप दुनिया से अलग कर लिया है. ग्रेटा ने खुद को दो हफ़्ते के लिए कमरे में बंद कर लिया है.

''लगता है संक्रमित हो गई हूँ''

उनके मूल वक्तव्य में जहां एक तरफ कोरोना के प्रति उनका भय दिख रहा था वहीं उनके वक्तव्य को गुजर से सुनने पर उसमें उनकी आशंका भी पुष्ट होती नज़र आ रही है.  दरअसल ग्रेटा ने अपने मूल बयान में कहा था कि - हालांकि कोरोना वायरस को लेकर मेरी कोई जांच नहीं हुई है, लेकिन जिस तरह के लक्षण हैं, उसको देख कर यही लग रहा है शायद मैं भी कोरोना संक्रमण की गिरफ्त में आ गई हूँ.

इंस्टाग्राम पर पोस्ट लिखी तो हुआ खुलासा

स्वीडिश पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग के आइसोलेशन में जाने की बात उनकी इंस्टाग्राम पर लिखी पोस्ट से दुनिया को पता चली. उन्होंने अपनी पोस्ट से ज़ाहिर किया कि इस बात मुझे बहुत आशंका नज़र आ रही है कि लगता है मुझे कोरोना वायरस का संक्रमण हो गया है.

इसे भी पढ़ें: स्पेन बन रहा है तीसरा सबसे बड़ा कोरोना संक्रमित देश

ग्रेटा ने जो पोस्ट इंस्टाग्राम पर लिखी थी उसमें बताया कि यूरोप की यात्रा से वापस आने के बाद उन्होंने और उनके पिता ने खुद को आइसोलेट कर लिया है. ग्रेटा ने इसमें आगे लिखा कि हम दोनों को लग रहा है कि हम बीमार हैं और हमको कंपकंपी के साथ-साथ गले में खराश भी हो रही है. साथ ही थोड़ी थकान भी महसूस हो रही है.

इसे भी पढ़ें: झूठा चीन छिपा रहा है आंकड़े, वहां 1.5 करोड़ लोगों के मरने की आशंका है!!

इसे भी पढ़ें: हिंद महासागर में चीन और पकिस्तान की हरकतें शुरू