सच बोली थी सांसद, अब छोड़नी होगी संसद

नेपाल की वह महिला सांसद जिसने सच बोलने का गुनाह किया था, अब उस गुनाह की सजा पाने वाली है और इस सजा के बाद उसे संसद से बाहर कर दिया जायेगा..  

सच बोली थी सांसद, अब छोड़नी होगी संसद

नई दिल्ली.  नेपाल की महिला सांसद सरिता गिरी सच बोलने की सजा पाने वाली हैं. इन्होंने नेपाल की संसद के द्वारा पास किये गये नेपाल के नये नक्शे का विरोध किया था. अब भारत का समर्थन करके सच बोलने के कारण उनकी सदस्यता छीनी जा रही है.

 

समाजवादी पार्टी ने किया विरोध

सरिता गिरी नेपाल की समाजवादी पार्टी की नेता हैं. जब उनकी अपनी पार्टी नेपाल के नक्शे में बदलाव का समर्थन कर रही थी, उन्होंने अकेले ही इस नये नक्शे का विरोध करते हुए इसके लिये होने वाले संविधान संशोधन विधेयक का विरोध किया था. अब उनकी समाजवादी पार्टी ही उनका विरोध कर रही है और खुद उनके इस जुर्म के लिये उन्हें सजा देने की सिफारिश कर रही है.

पद से हटाने की मांग 

भारत समर्थक नेपाल की इस महिला सांसद सरिता गिरी की अपनी पार्टी उनके खिलाफ खड़ी है और उन्हें पद से हटाने की सिफारिश कर रही है.नेपाल में भारतीय इलाकों को शामिल करने वाले नक्शे का विरोध करने वाली एकमात्र सांसद सरिता गिरी शायद आने वाले दिनों में संसद-बदर हो जायेंगी और एक इतिहास बन कर रह जायेंगी.

'नियमों का पालन न करने की सजा'

नेपाल की समाजवादी पार्टी के महासचिव राम सहाय प्रसाद यादव के नेतृत्व में एक टास्क फोर्स का गठन हुआ है जिसने मांग की है कि सांसद सरिता गिरि को संसदीय सीट और पार्टी की सामान्य सदस्यता से बाहर कर दिया जाना चाहिये. टास्क फोर्स के सदस्य मोहम्मद इस्तियाक ने बताया कि गिरी को पार्टी और सांसद के पद से इसलिये हटाने की सिफारिश हुई है क्योंकि उन्होंने संसदीय दल के निर्देशों का पालन नहीं किया है.

ये भी पढ़ें. एलएसी पर भारतीय वायुसेना का मिड-नाइट ऑपरेशन