• पूरे देश में कोरोना वायरस के कुल सक्रिय मामले अभी तक 4312 हैं, अभी तक 124 लोगों की मृत्यु हुई, 353 लोग इलाज के बाद ठीक हुए
  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना मरीजों की देखभाल के लिए अस्पताल और अन्य सुविधाओं को तीन भागों में बांटा.
  • भारतीय रेलवे अपने डॉक्टरों और चिकित्साकर्मियों की सुरक्षा के लिए हर रोज एक हजार पीपीआई किट का निर्माण करेगी
  • कोरोना से निपटने के लिए राहत कार्यों में योगदान देने के लिए पूर्व सैनिकों ने स्वैच्छिक सेवाएं प्रदान की
  • लॉकडाउन के बीच जहाजों का आवागमन होगा, पोत परिवहन मंत्रालय ने सुनिश्चित किया
  • सरकार के दीक्षा ऐप पर कोरोना से जूझने वालों के लिए इंटीग्रेटेड ऑनलाइन गवर्नमेन्ट ट्रेनिंग यानी IGOT कोर्स लाया गया है
  • पूरी दुनिया में कोरोना वायरस की चपेट में 1,428,428, अब तक कुल 82,020 की मौत हो चुकी है. 3,00,198 मरीज ठीक भी हुए.
  • राज्यों में कुल कोरोना संक्रमण- महाराष्ट्र में 1161, तमिलनाडु में 690, दिल्ली में 606, तंलंगाना में 404, केरल में 336
  • उत्तर प्रदेश में 332 राजस्थान में 343, आंध्र में 324, मध्य प्रदेश में 280, कर्नाटक में 204, गुजरात में 168

न्यूयॉर्क में दिखेंगी लाशें ही लाशें, भगवान न करे ऐसा हो !

चीनी कोरोना वायरस ने जैसे अमेरिका को तबाह करने की कसम खाई है. अमेरिका में तेजी से फैलते कोरोना संक्रमण के हालात में आशंका जताई गई है कि सिटी नेवर स्लीप्स के नाम से जाने जाने वाले अमेरिकी महानगर  न्यूयॉर्क में इतने लोग मरने वाले हैं कि सड़कों पर लाशों के ढेर लग जाएंगे..

न्यूयॉर्क में दिखेंगी लाशें ही लाशें, भगवान न करे ऐसा हो !

नई दिल्ली: न्यूयॉर्क में कोरोना संक्रमण को लेकर जताई गई आशंका बहुत डरावनी है जिसमे कहा गया है कि न्यूयॉर्क अमेरिका में सबसे अधिक कोरोना संक्रमित महानगर बनने वाला है. यहां मरने वालों की गिनती करनी भी मुश्किल हो सकती है, जैसी तमाम आशंकाओं के बीच न्यूयॉर्क प्रशासन ने स्थिति से निपटने के लिए कमर कस ली है.

ट्रकों पर बनाये जाएंगे मुर्दाघर

न्यूयॉर्क प्रशासन कोरोना वायरस को लेकर बुरी तरह आतंकित है. भावी आशंकाओं से निपटने के लिए प्रशासन सारी तैयारियां कर रहा है. ज़िंदा मरीजों के उपचार से लेकर कोरोना संक्रमण से होने वाली मौतों को भी दृष्टि में रख कर पहले से ही सरे प्रबंध करने में जुटा है.

डरे हुए प्रशासनिक अधिकारी भारी संख्या में होने वाली मौतों के लिए ट्रकों को मुर्दाघरों में तब्दील करने की भी सोच रहा ही.

कुछ अस्पतालों ने कर ली है तैयारी

न्यूयॉर्क के कुछ अस्पताल इस दिशा में अपनी तैयारी पूरी कर चुके हैं. इन अस्पतालों में टेंट और रेफ्रिजरेटेड ट्रक पर मुर्दाघर बनाने का काम लगभग पूरा हो गया है. अस्पताल प्रशासन के अनुसार  अनुसार हालात बेकाबू होते जा रहे हैं. न्यूयॉर्क में पहले ही इमरजेंसी लगी हुई है.

ऐसा पहले भी वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए आतंकी हमले के दौरान हो चुका है जब लाशों के ढेर के बीच न्यू यॉर्क शहर में ट्रकों को अस्थाई मुर्दाघर बनाया गया था. कोरोना वायरस से मौत के बाद शवों को अलग रखने के नज़रिये से भी ऐसा किया जा रहा है.

नार्थ केरोलिना में भी यही तैयारी है

मीडिया सूत्रों ने बताया  कि न्यूयॉर्क के अलावा नॉर्थ कैरोलिना में भी कोरोना-शवों के लिए इसी तरह की तैयारियां चल रही हैं. वहां टेंटों और  रेफ्रिजरेटेड ट्रंकों को इस प्रयोजन के लिए तैयार किया जा रहा है.  बनाये जा रहे हैं. 

इसे भी पढ़ें: अगर कोरोना साजिश तो सवालों के घेरे में डब्ल्यूएचओ

अमेरिका में अब तक एक हज़ार से ज्यादा लोग मर चुके हैं और देश में उनहत्तर हज़ार से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो कर अस्पतालों में पड़े हुए हैं और गंभीर बात ये है कि  20 फीसदी से ज्यादा मरीज आईसीयू में भर्ती हैं और इसमें से 80 फीसदी मरीजों को वेन्टीलेटर की जरूरत पड़ती है.

इसे भी पढ़ें: सबसे बड़ी राहत की उम्मीद: जल्दी खत्म होगी महामारी

इसे भी पढ़ें: इमरान ने पाकिस्तान में नहीं किया लॉकडाउन, स्थिति हो रही है गंभीर