दुनिया में 10 में से तीन लोगों के पास हाथ धोने की सुविधा नहींः UNICEF

घर पर बुनियादी हाथ स्वच्छता तक पहुंच रखने वाली वैश्विक आबादी 5 अरब से बढ़कर 5.5 अरब या 67 प्रतिशत से बढ़कर 71 प्रतिशत हो गई है.  

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Oct 16, 2021, 06:01 PM IST
  • रिपोर्ट में हुए चौंकाने वाले खुलासे
  • जानिए कोरोना ने कैसे बदली तस्वीर
दुनिया में 10 में से तीन लोगों के पास हाथ धोने की सुविधा नहींः UNICEF

संयुक्त राष्ट्र: यूनिसेफ ने कहा कि वैश्विक स्तर पर 10 में से तीन लोगों या 2.3 अरब लोगों के पास घर पर उपलब्ध पानी और साबुन से हाथ धोने की सुविधा नहीं है. कम विकसित देशों में स्थिति सबसे खराब है और वहां 10 में से छह से अधिक लोगों के पास बुनियादी तौर पर हाथ की स्वच्छता को लेकर सुविधा नहीं है. संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने ग्लोबल हैंडवाशिंग डे पर एक तथ्य पत्रक (फैक्ट शीट) में यह बात कही है, जो 15 अक्टूबर को पड़ता है.

स्कूलों का ये है हाल
नवीनतम अनुमानों के अनुसार, दुनिया भर में पांच में से दो स्कूलों में पानी और साबुन के साथ बुनियादी स्वच्छता सेवाएं नहीं हैं, जिससे 81.8 करोड़ छात्र प्रभावित होते हैं, जिनमें से 46.2 करोड़ बिना किसी सुविधा के स्कूलों में जा रहे हैं. सबसे कम विकसित देशों में, 10 में से सात स्कूलों में बच्चों के हाथ धोने के लिए कोई जगह नहीं है.

दुनिया भर में एक तिहाई स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं में देखभाल के बिंदुओं पर हाथ की स्वच्छता की सुविधा नहीं है, जहां रोगी, स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ता और उपचार में रोगी के साथ संपर्क शामिल है. नवीनतम आंकड़े बताते हैं कि 2015 के बाद से कुछ प्रगति हुई है.

बुनियादी सुविधाएं भी नहीं
घर पर बुनियादी हाथ स्वच्छता तक पहुंच रखने वाली वैश्विक आबादी 5 अरब से बढ़कर 5.5 अरब या 67 प्रतिशत से बढ़कर 71 प्रतिशत हो गई है. हालांकि, अगर मौजूदा रुझान बना रहता है, तो दशक के अंत तक 1.9 अरब लोगों के पास बुनियादी हाथ स्वच्छता तक पहुंच नहीं होगी. 2030 तक दुनिया के सबसे कम विकसित देशों में से 46 में सभी घरों में हाथ की स्वच्छता प्रदान करने की लागत अनुमानित 11 अरब डॉलर है.

महामारी ने बताई जरूरत
यूनिसेफ वॉश के निदेशक केली एन नायलर ने एक बयान में कहा, महामारी के लिए वैश्विक प्रतिक्रिया प्रयासों ने हाथ की स्वच्छता के लिए एक अभूतपूर्व समय बनाया है. फिर भी सबसे कमजोर, अयोग्य समुदायों के लिए प्रगति बहुत धीमी है.

उन्होंने कहा, हाथ की स्वच्छता को कोविड-19 के प्रबंधन के लिए एक अस्थायी प्रावधान के रूप में नहीं देखा जा सकता है. पानी, सफाई एवं स्वच्छता में और दीर्घकालिक निवेश अगले स्वास्थ्य संकट को आने से रोकने में मदद कर सकता है. इसका मतलब यह भी है कि कम लोग श्वसन संक्रमण से बीमार पड़ रहे हैं, कम बच्चे अतिसार की बीमारियों से मर रहे हैं और अधिक गर्भवती माताओं और नवजात शिशुओं को सेप्सिस जैसी रोकथाम योग्य स्थितियों से बचाया गया है.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़