• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,64,944 और अबतक कुल केस- 7,42,417: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,56,831 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 20,642 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 61.13% से बेहतर होकर 61.53% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 16,883 मरीज ठीक हुए
  • डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में प्रति दस लाख आबादी पर सबसे कम मामले हैं
  • स्वस्थ होने वालों की संख्या करीब 4.4 लाख, संक्रमितों और ठीक होने वालों की संख्या का अंतर 1.8 लाख से अधिक
  • आईसीएमआर: पिछले 24 घंटे में 2.41+ लाख नमूनों की जांच की गई, कुल परीक्षणों की संख्या 1.02 करोड़ के पार
  • फिल्म निर्माण शुरू करने को लेकर सरकार जल्द ही एसओपी की घोषणा करेगी, ताकि फिल्म निर्माण में फिर से तेजी लाई जा सके
  • सीबीएसई ने छात्रों को दी बड़ी राहत, कक्षा 9वीं से 12वीं का सिलेबस घटाया गया
  • एमएचआरडी: यूजीसी और स्वयं के द्वारा "इंटरनेशनल बिजनेस" में मुफ्त ऑनलाइन कोर्स उपलब्ध है
  • विश्व बैंक ने गंगा के कायाकल्प हेतु ‘नमामि गंगे कार्यक्रम’ में आवश्यक सहयोग बढ़ाने के लिए 400 मिलियन डॉलर प्रदान किए

राष्ट्रपति चुनाव का उम्मीदवार जो है भारत विरोधी

अमेरिका में इस वर्ष होने वाले राष्ट्रपति चुनाव का डेमोक्रेटिक पार्टी वाला उम्मीदवार जो बिडेन भारत विरोधी है और यह बात इस उम्मीदवार के पॉलिसी पेपर से पता चली. बिडेन के पालिसी पेपर्स में इस प्रत्याशी ने कश्मीर और CAA मामले में मोदी सरकार की की है आलोचना  

राष्ट्रपति चुनाव का उम्मीदवार जो है भारत विरोधी

नई दिल्ली. अभी तक जो हालात हैं उससे तो यही ज़ाहिर होता है कि भारत को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प में नज़र आया है एक विश्वसनीय मित्र जिसने आज चीन के साथ तनातनी के दौरान दुनिया में सबसे पहले भारत की मदद के लिए सामने आया और चीन के खिलाफ अपनी सेना भेजने के ऐलान के साथ भारत को मजबूत भी किया है. इसके उलट डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन ने अपने जारी किये पालिसी पेपर्स में भारत विरोधी राजनीति  खेली है.

 

अब तक दिखा रहे थे मित्रता

अमेरिका में इस वर्ष होने वाले ाराष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी प्रत्याशी जो बिडेन अब तक भारत के प्रति मैत्री का प्रदर्शन कर रहे थे लेकिन अब इस साल ठीक चुनाव के पहले उन्होंने पलटी मार दी है और अपना भारत विरोधी चेहरा उजागर कर दिया है. वे कश्मीर और CAA को लेकर भारत विरोधी पाए  गए हैं और भारत के इन दोनों अहम घरेलू मामलों में भारत की निंदा करते नज़र आ रहे हैं.

ओबामा सरकार में थे नंबर दो

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की सरकार में महत्वपूर्ण भूमिका में थे जो बिडेन इसलिए ही इस बार चुनावों में बराक ने खुल कर बिडेन का समर्थन किया है. आठ वर्षों तक जो बिडेन बराक ओबामा की सरकार में उप-प्रमुख की भूमिका में रहे. इन आठ वर्षों में जो बिडेन को सदा ही भारत के प्रति  मित्रता भरा व्यवहार दिखाते हुए देखा गया था.

मुस्लिम वोटों के लिए मारी पलटी

चुनावों में मुस्लिम वोट जुगाड़ने के लिए पलटी मारी है बिडेन ने. एजेंडा फॉर मुस्लिम अमेरिकन कम्युनिटी के नाम पर पॉलिसी में बिडेन ने अपना मत देते हुए कहा है कि मोदी सरकार को कश्मीरियों के अधिकारों की रक्षा करनी चाहिए. इसके अतरिक्त NRC-CAA मामले में बिडेन का मत था कि  मोदी सरकार का यह रवैया भारत की गैर साम्प्रदायिक परंपरा में ऐसा कदम विरोधाभासी भी है और निराशाजनक भी.

ये भी पढ़ें. चीन के खिलाफ तैयार हुआ नया मोर्चा - आसियान देश हुए सख्त