• 191 यात्रियों के साथ दुबई से करिपुर के लिए एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, फायर टेंडर और एंबुलेंस मौके पर
  • केरल: कोझीकोड के करिपुर हवाई अड्डे पर उतरने के दौरान एयर इंडिया एक्सप्रेस का एक विमान रनवे से फिसल गया
  • कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 6,07,384 और अबतक कुल केस- 20,27,075: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 13,78,106 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 41,585 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.62% से बेहतर होकर 67.98% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 49,769 मरीज ठीक हुए

कोरोना वायरस: WHO ने पहली बार चीन के झूठ को दुनिया के सामने किया उजागर

कोरोना वायरस नामक जानलेवा वायरस पूरी दुनिया में हाहाकार मचा रहा है. चीन के झूठ और WHO की लापरवाही की वजह से दुनियाभर के अनेक देशों में कोविड 19 का प्रकोप है.

कोरोना वायरस: WHO ने पहली बार चीन के झूठ को दुनिया के सामने किया उजागर

नई दिल्ली: विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन को पहली बार उसकी पापपूर्ण करतूतों के लिए लताड़ लगाई है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने परोक्ष रूप से गलती से चीन की सच्चाई दुनिया को बता दी. इसकी आलोचना अब पूरी दुनिया में हो रही है. चीन के अमानवीय कृत्य का पूरे विश्व में विरोध हो रहा है और कोरोना वायरस की असली सच छिपाने में WHO ने भी उसकी मदद की थी. अमेरिका ने इसीलिए WHO को दोषी मानते हुए उसकी फंडिंग पर पूरी तरह रोक लगा दी.

कोरोना की जानकारी देने के मुद्दे पर WHO का झूठ

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को लेकर जो नई टाइमलाइन बनाई है, उसमें इसका कोई जिक्र नहीं है कि चीन ने उसे कोरोना के बारे में बताया था. WHO का यह कदम उसकी कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल खड़े करता है, और इससे पश्चिमी देशों के उस आरोप को बल मिलता है कि वैश्विक संस्था ने पारदर्शिता नहीं बरती.

क्लिक करें- धर्म चक्र दिवस पर पीएम मोदी: 'सभी के लिए प्रेरणादायक हैं भगवान बुद्ध की शिक्षाएं'

झूठ बोलकर खुद की विश्वसनीयता बचाने की कोशिश में WHO

आपको बता दें कि चीन के बारे में पहली बार विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सार्वजनिक रूप से कुछ कहा है. बताया गया है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने गुपचुप तरीके से उन घटनाओं के क्रम को बदल दिया है, जिसके चलते पूरी दुनिया को कोरोना महामारी का सामना करना पड़ा. लगभग छह महीने पहले  डब्ल्यूएचओ ने दावा किया था चीन ने 31 दिसंबर, 2019 को उसे कोरोना वायरस के बारे में सूचित किया था.