सतपुड़ा की रानी पचमढ़ी में 6 दिवसीय पचमढ़ी महोत्सव, सैलानियों के नए साल को बनाएगा खूबसूरत
Advertisement
Article Detail0/zeeodisha/odisha615668

सतपुड़ा की रानी पचमढ़ी में 6 दिवसीय पचमढ़ी महोत्सव, सैलानियों के नए साल को बनाएगा खूबसूरत

यह पचमढ़ी महोत्सव 25 से 30 दिसंबर तक चलेगा. जिसमे 26 दिसंबर को सूफी नाइट, 27 दिसंबर को कवि सम्मेलन, 28 दिसंबर को म्यूजिकल नाइट कार्यक्रम, 29 दिसंबर को फ्यूज़न नाइट और महोत्सव के समापन में 30 दिसम्बर को गजल, लोक नृत्य एवं पुरुस्कार वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा.

स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए

पीताम्बर जोशी​/होशंगाबाद: मध्यप्रदेश के एकमात्र हिल स्टेशन पचमढ़ी में पचमढ़ी उत्सव का शुभारंभ किया गया है. सैलानियों के लिए नए साल के जश्न को खूबसूरत बनाने और पचमढ़ी में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा एवं पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल द्वारा इस उत्सव का शुभारंभ किया गया.

fallback

होशंगाबाद पर्यटन सम्बर्धन परिषद द्वारा हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी पचमढ़ी महोत्सव का आयोजन किया गया है और यह पचमढ़ी महोत्सव 25 से 30 दिसंबर तक चलेगा. जिसमे 26 दिसंबर को सूफी नाइट, 27 दिसंबर को कवि सम्मेलन, 28 दिसंबर को म्यूजिकल नाइट कार्यक्रम, 29 दिसंबर को फ्यूज़न नाइट और महोत्सव के समापन में 30 दिसम्बर को गजल, लोक नृत्य एवं पुरुस्कार वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा. इसके अलावा एडवेंचर गेम्स का आयोजन भी किया जा रहा है. वहीं दिन में स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए. 

वहीं कार्यक्रम का शुभारंभ करने पहुंचे जनसम्पर्क और प्रभारी मंत्री पीसी शर्मा ने पचमढ़ी उत्सव का शुभारंभ करते हुए कहा, कि पचमढ़ी उत्सव प्रदेश का लोकप्रिय महोत्सव है, इसलिए अगले वर्ष से पचमढ़ी उत्सव संस्कृति विभाग एवं पर्यटन विभाग द्वारा संयुक्त रूप से संचालित किया जाएगा. साथ ही ग्रामीण एवं पंचायत विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल ने पचमढ़ी उत्सव को संस्कृति कैलेंडर में शामिल करने की बात कही. मंत्री श्री पटेल ने कहा कि उत्सव के माध्यम से जहां एक तरफ रोजगार का सृजन होगा, वहीं हमारी धरोहर सांस्कृतिक लोक शैलियों का संरक्षण एवं संवर्धन भी होगा. आपको बता दें, कि पचमढ़ी में इन दिनों हर साल हजारों विदेशी सैलानी अपने परिवार के साथ नए साल का जश्न मनाने के लिए आते हैं, और उनके लिए पचमढ़ी उत्सव एक नए रंग रूप के साथ भारतीय संस्कृति को दिखाता हुआ नजर आता है.