कोटा: डीजे बना मौत की वजह, शराब पिलाकर तोड़ी टांगे, फिर...

कोटा के रेलवे कॉलोनी थाना क्षेत्र के सोगरिया में दो दिन पहले हुई हत्या का पुलिस ने खुलासा किया है.  

कोटा: डीजे बना मौत की वजह, शराब पिलाकर तोड़ी टांगे, फिर...
पुलिस गिरफ्त में आरोपी विजेंद्र सिंह उर्फ बिज्जू

कोटा: कोचिंग सिटी के रेलवे कॉलोनी थाना क्षेत्र के सोगरिया में दो दिन पहले हुई हत्या का पुलिस ने खुलासा किया है. मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने बताया कि डीजे बजाने पर हुई रंजिश के चलते आरोपी ने मृतक को पहले शराब पिलाई उसके बाद पाइप से उसकी टांगे तोड़ दी. सड़क से दूरी ज्यादा होने के चलते मृतक घटनास्थल के पास झाड़ियों में ही पड़ा रहा और तड़पते-तड़पते उसकी मौत हो गई.

मामले का खुलासा करते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दिलीप सैनी ने बताया कि रेलवे कॉलोनी थाना पुलिस को 19 दिसंबर को अजय मीणा का शव सोगरिया बालाजी रेस्टोरेंट के पास मिला था. इस मामले में पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज किया था. वही जांच पड़ताल करने पर सामने आया कि उसकी हत्या उसके पड़ोस में ही रहने वाले विजेंद्र सिंह उर्फ बिज्जू ने की है. ऐसे में पुलिस ने उसे बूंदी से गिरफ्तार कर लिया. 

साथ ही पूछताछ में सामने आया है कि मृतक अजय मीणा को वह अपने ऑटो में बैठाकर सुनसान जगह ले कर गया और पहले उसे शराब पिलाई. बाद में लोहे के पाइप से मार-मार कर उसकी टांगे तोड़ दी. साथ ही उसके सिर पर भी चोट पहुंचाई है, जिसके चलते वह सुनसान जगह झाड़ियों के पास पड़ा रहा और उसकी मौत हो गई. आरोपी विजेंद्र सिंह उर्फ बिज्जू के खिलाफ पहले भी गैर इरादतन हत्या का प्रयास, जानलेवा हमला और आर्म्स एक्ट के 6 मुकदमे दर्ज हैं. यह सभी मुकदमे रेलवे कॉलोनी थाना क्षेत्र में दर्ज हुए हैं.

डीजे बजाने को लेकर हुआ था विवाद
पुलिस उप अधीक्षक भगवत सिंह हिंगड़ ने बताया कि मृतक अजय मीणा ऑटो चलाता था, गत 19 सितंबर के दिन अजय मीणा के मामा के घर पर कोई बर्थडे पार्टी थी. जहां पर तेज आवाज में डीजे बज रहा था. इसको लेकर विजेंद्र सिंह उर्फ बिज्जू और अजय के परिजनों में विवाद हो गया था. 

वहीं हत्यारे विजेंद्र ने आरोप लगाया था कि अजय व उसके परिजन मेरी दीवार पर लघुशंका कर रहे थे. इस मामले में दोनों पक्षों के बीच मारपीट हो गई थी. पुलिस ने इस मामले में हत्या विजेंद्र की रिपोर्ट पर अजय के परिजनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया और चालान भी कोर्ट में पेश किया था. इस मामले में विजेंद्र से अजय ने कहा था कि वह तो मारपीट नहीं बीच-बचाव कर रहा था. हालांकि विजेंद्र को इसमें शक था कि अजय ही इस मामले में उसके साथ मारपीट करवाने में शामिल था. इसी के चलते उसने हत्या की है.