यमुनानगर में छत से मिला लावारिस हालत में नवजात, जानें क्या है पूरा मामला

यमुनानगर में आज एक छत से लावारिस हालत में मिला नवजात और जब इस नवजात को अस्पताल पहुंचाया गया, तो उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे PGI रेफेर कर दिया गया

यमुनानगर में छत से मिला लावारिस हालत में नवजात, जानें क्या है पूरा मामला

कुलवंत सिंह/यमुनानगर: यमुनानगर में आज एक छत से लावारिस हालत में मिला नवजात और जब इस नवजात को अस्पताल पहुंचाया गया, तो उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे PGI रेफेर कर दिया गया, जब चाइल्ड लाइन की टीम ने छानबीन की तो इस बच्चे को फेंकने वाली उसकी मां भी मिल गई, जिसके बाद जिसने भी उस नाबालिग मां की कहानी सुनी उसका दिल पसीज गया कि कैसे उसने बिना किसी की मदद के उस बच्चे को जन्म बाथरूम में जन्म दिया और फिर उसे पड़ोस में ही छत फेंक दिया.

वहीं, चाइल्ड लाइन ने इस मामले में कड़ा संज्ञान लिया है. चाइल्ड लाइन की डायरेक्टर अंजू वाजपई का कहना है कि अगर ये बालिग होती तो इसके खिलाफ कारवाई के लिए लिखा जाता. अब इससे पूछताछ की जाएगी कि इसके साथ ऐसा करने वाला कौन है और यदि ऐसे ही समाज मे लोग बच्चों को फेंकते रहे तो इनका भविष्य क्या होगा ये बड़ा ही चिंता का विषय है. यमुनानगर की एक कालोनी से एक ऐसा मामला सामने आया जिसे देखकर हर कोई दंग है.

छत पर मिला नवजात बच्चा

घटना के बारे सुनकर कर हर किसी का दिल पसीज रहा है. यहां एक नाबालिग लड़की ने घर के बॉथरूम में अकेले की ही बच्चे को जन्म दे डाला, जन्म के बाद नाबालिग मां ने नवजात को पड़ोसी की छत पर फेंक दिया. नवजात बरसात में भीगता रहा. बच्चे की रोने की आवाज सुनकर मालिक छत पर पहुंचा तो बच्चे को देख कर दंग रह गया. बच्चे की हालत खराब हो रही थी. बरसात की वजह से खून बहने लगा था.

ये भी पढ़े: पति से तलाक लेने जा रही हैं पोर्न स्टार मिया खलीफा, 2 साल पहले की थी शादी

आसपड़ोस के लोगों ने बच्चे को कपड़े में लपेट सिविल अस्पताल जगाधरी ले गए, जहां उसकी नाजुक हालत देखते हुए उसे PGI रेफर कर दिया. वहीं प्रसव के बाद नाबालिग जच्चा की हालत भी खराब हो गई, जिसके बाद परिजन उसे सिविल अस्पताल ले गए, जानकारी मिलते ही चाइल्ड लाइन की टीम पुलिस के साथ मौके पर पहुंच गई. टीम मामले में जच्चा व परिजनों से बातचीत की तो पता चला कि नाबालिग लड़की यहां अपनी नानी के घर रविवार शाम को ही आई थी.

सुबह नाबालिग ने अकेले ही नानी के घर बॉथरूम में बच्चे को जन्म दिया. जन्म देने के बाद किशोरी ने नवजात बेटा को तौलिये में लपेट कर साथ लगती छत पर फेंक दिया. नाबालिग द्वारा अकेले बच्चे को जन्म देने की बात पर सब हैरत में पड़ गए हैं. क्योंकि प्रसव पीड़ा सहना नाबालिग के लिए असंभव है और लोगों का कहना है कि उन्होंने किसी प्रकार की कोई आवाज व शोर नहीं सुना. बच्चे की रोने की आवाज आने पर ही उन्हें इसका पता चल पाया.

बाथरूम में दिया बच्चे को जन्म

जानकारी के अनुसार ऐसा नहीं है कि बच्चा प्री-मैच्योर हो, बच्चा पूरे नौ महीने का बताया जा रहा है. ऐसे में किशोरी ने जो हौसला दिखाया उसके सामने सभी दंग हैं. तीन घंटे किशोरी अकेले बॉथरूम में रही और बेटे को जन्म दिया. यही नहीं वह चीखी चिल्लाई नहीं. अकेले ही बच्चे की नाल काटी और सबकी नजर बचाकर बच्चा छत पर फेंक दिया. किशोरी का यह हौसला देखते चाइल्ड लाइन, पड़ोसी, चि‌कित्सक सभी दंग है और इसे असंभव ही मान रहे हैं. उनके अनुसार एक तन्दुरुस्त महिला भी ऐसा नहीं कर सकती जैसा इसने किया है.

ये भी पढ़े: खान की बेटी ने सोशल मीडिया पर किया बड़ा खुलासा, कहा- मां ने दी थी सेक्स...

इस मामले में जब लड़की के मां बाप से बात की गई तो उन्होंने खुद को इस सब से अंजान बताया. मां ने बताया कि उनकी बेटी 19 साल की है. चाइल्ड लाइन ने जब लड़की की आयु का प्रमाण मांग तो वे आनाकानी करने लगे.  मां-बाप ने इलाज तक के लिए लड़की का आधार कार्ड तक नहीं दिया. बार-बार मांगने के बाद भी उन्होंने आयु का कोई प्रमाण नहीं दिया. वहीं अब वे चाइल्ड लाइन टीम का फोन तक नहीं उठा रहे हैं.

कई बार घर के चक्कर लगाने के बाद वहां कोई नहीं मिला. लड़की के मां बाप, भाई सहित अन्य सदस्य में से अब घर पर कोई नहीं है. चाइल्ड लाइन निदेशिका डॉ. अंजू वाजपेयी ने बताया कि जब उन्होंने मां से पूछा कि पेट बढ़ने पर उन्हें पता चला होगा. तो मां ने कहा कि पेट बढ़ने लगा तो पहले उन्होंने गौर नहीं किया, जब ज्यादा पेट बाहर आया तो उन्होंने बेटी को चिकित्सक को दिखाया. चिकित्सक ने कहा कि लड़की को थॅयराइड है और बहुत ज्यादा बढ़ गया है, जिस कारण उसका पेट बढ़ रहा है.

WATCH LIVE TV