महामारी के बीच युवाओं ने चुनौतियों से जूझकर कराया ग्रीन वैली दुर्गा पूजा का सफल आयोजन
X

महामारी के बीच युवाओं ने चुनौतियों से जूझकर कराया ग्रीन वैली दुर्गा पूजा का सफल आयोजन

पंडाल में आने वाले सभी भक्तों को महामारी से बचाने के लिए मास्क और सैनिटाइजेशन टनल के साथ थर्मल स्कैनिंग के अलावा कोविड रोधी सभी दिशानिर्देश का नियमित पालन किया गया. महामारी रोकने के इंतजामों के बाद लोगों ने थोड़ा साहस दिखाया और इसके बाद परिवारों ने पंडाल में आना शुरू कर दिया. 

महामारी के बीच युवाओं ने चुनौतियों से जूझकर कराया ग्रीन वैली दुर्गा पूजा का सफल आयोजन

फरीदाबाद : कोविड 19 महामारी के बीच इस बार ग्रीन वैली दुर्गा पूजा अन्य वर्षों की अपेक्षा चुनौतियों से भरी रही. इसके बावजूद आयोजन के 14वें साल युवाओं ने अपने वरिष्ठों के मार्गदर्शन में इस जिम्मेदारी को बड़ी बेहतर तरीके से संभाला.

दूर्गा पूजा के प्रत्येक गुजरते दिन के साथ मां दुर्गा ने सभी को अधिक साहस और सकारात्मकता का आशीर्वाद दिया, जिसके परिणाम स्वरूप ग्रीन वैली ने 'आसछे बोछोर आबार होबे' यानी अगले साल फिर धूमधाम से दुर्गा पूजा मनाएंगे के नारे लगाते हुए बहुत धूमधाम और मस्ती के साथ उनके विसर्जन की तैयारियां करना शुरू कर दिया. 

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि 2021 का साल आसान नहीं रहा. हमने कई अपने ज्ञात और अज्ञात लोगों को हमेशा के लिए खो दिया. सभी के इर्द-गिर्द भावनात्मक उथल-पुथल का माहौल रहा. जिस वक्त महामारी की चपेट में आकर लोग जान गंवा रहे थे और दिल व दिमाग के बीच एक निरंतर संघर्ष चल रहा था. उस दौरान ग्रीन वैली में एक विश्वास ने नकारात्मकता को हरा दिया, जब देवी दुर्गा ने महिषासुर का वध किया और ग्रीन वैली में अवतरित हुईं.

WATCH LIVE TV

इस बार दुर्गा पूजा का सफल आयोजन कराने के लिए युवा आगे आए. उन्होंने परम्पराओं, भावनाओं के साथ समारोहों के साथ दुर्गा पूजा का आयोजन किया. सफल आयोजन के सामने कई सारी चुनौतियां रहीं. दुर्गा पूजा के लिए पुलिस, अग्निशमन विभाग, आरडब्ल्यूए, स्वास्थ्य और स्वच्छता समेत कई नागरिक अधिकारियों की अनुमति लेना बड़ी चुनौती भरा काम था. 

इस तरह की गई व्यवस्था 

दुर्गा पूजा में 24 घंटे एम्बुलेंस तैनात रही. पंडाल में आने वाले सभी भक्तों को महामारी से बचाने के लिए मास्क और सैनिटाइजेशन टनल के साथ थर्मल स्कैनिंग के अलावा कोविड रोधी सभी दिशानिर्देश का नियमित पालन किया गया. महामारी रोकने के इंतजामों के बाद लोगों ने थोड़ा साहस दिखाया और इसके बाद परिवारों ने पंडाल में आना शुरू कर दिया. इस तरह आयोजन सफल रहा.

'धुनुची नृत्य' कर शक्ति की उपासना

महामारी में जान गंवाने वाले लोगों के लिए शोक सभा का फेसबुक पर लाइव टेलीकास्ट किया गया और मां दुर्गा की पूजा शुरू होने के बाद ग्रीन वैली की खोई आत्मा वापस आ सकी. नवमी पर पंडाल में आए लोग एक विशिष्ट परंपरा लेकर आए. हर आयु वर्ग के लोगों ने 'धुनुची नृत्य' करते हुए शक्ति की उपासना की.

पूजा के प्रत्येक गुजरते दिन के साथ देवी दुर्गा ने सभी को अधिक साहस और सकारात्मकता का आशीर्वाद दिया, जिसकी बदौलत फरीदाबाद के लोगों ने एक बार फिर ग्रीन वैली के वातावरण को भक्तिमय बना दिया और अगले साल मां दुर्गा के स्वागत की कामना के साथ प्रतिमा का विसर्जन कर दिया. 

Trending news