Super-100 Program : हरियाणा में सरकारी स्कूलों के 26 विद्यार्थियों ने IIT की सीटों पर कब्जा जमाया
X

Super-100 Program : हरियाणा में सरकारी स्कूलों के 26 विद्यार्थियों ने IIT की सीटों पर कब्जा जमाया

2018 में शुरू किए गए इस कार्यक्रम के तहत कोचिंग करने वाले विद्यार्थियों के ठहरने, खाने-पीने, स्टेशनरी, ट्रांसपोर्ट, मोक टेस्ट आदि का खर्च सरकार वहन करती है. 

Super-100 Program : हरियाणा में सरकारी स्कूलों के 26 विद्यार्थियों ने IIT की सीटों पर कब्जा जमाया

चंडीगढ़ : हरियाणा सरकार (Haryana Government) द्वारा 2018 में शुरू किया गया सुपर-100 कार्यक्रम (Super-100 Program ) एक बार फिर असरदायक साबित हुआ है. इसके तहत हरियाणा के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले 26 विद्यार्थियों ने इस साल  के 26 विद्यार्थियों ने इस साल JEE Advance परीक्षा में सफल होकर IIT की सीटों पर कब्जा जमाया है. यह जानकारी खुद सीएम मनोहर लाल ने ट्वीट कर दी है. 

 

हरियाणा के जिन छात्रों ने आईआईटी सीटें अपने नाम की हैं, उनमें सामान्य और ओबीसी वर्ग के 8- 8, जबकि एससी वर्ग के 10 विद्यार्थी शामिल हैं.
स्कूल शिक्षा विभाग ने इन विद्यार्थियों के आईआईटी में दाखिले के लिए संरक्षक की व्यवस्था की है. संरक्षक का कार्य चयनित बच्चों को प्रतिष्ठित संस्थानों में दाखिले से लेकर काउंसलिंग फीस तक की मदद प्रदान करवाना है.

सुपर-100 के 2019-21 सत्र में विज्ञान संकाय में रेवाड़ी व पंचकूला केंद्रों में 119 विद्यार्थियों ने प्रशिक्षण पूरा किया था. इनमें से JEE (MAIN) EXAM के दौरान 54 विद्यार्थियों ने JEE Advance टेस्ट के लिए क्वालीफाई किया था. इन्हीं में से 26 विद्यार्थियों ने आईआईटी दाखिले के लिए अपनी सीट पक्की की है.

अंबाला के सुशील कुमार की एससी श्रेणी में ऑल इंडिया रैंक 192 आई है. हरियाणा सरकार ने सुपर-100 कार्यक्रम की सफलता को देखते हुए गत वर्ष इसके लिए केंद्रों की संख्या चार कर दी थी. साथ ही कक्षा 9वीं से ही प्रतिभावान बच्चों को कार्यक्रम से जोड़ने के लिए 'बुनियाद' कार्यक्रम शुरू किया है.

इसके जरिये बच्चों को एनटीएसई, केवीपीवाई व अन्य छात्रवृत्तियों के साथ ही जेईई व नीट की परीक्षा की तैयारी भी करवाई जा रही है. जिला स्तर पर 22 केंद्र बनाए गए हैं. 

WATCH LIVE TV 

एनडीए-एसएसबी की तैयारी भी 

शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने कहा कि सुपर-100 कार्यक्रम में विद्यार्थियों के ठहरने, खाने-पीने, स्टेशनरी, ट्रांसपोर्ट, मोक टेस्ट आदि का खर्च सरकार वहन कर रही है. रेवाड़ी में विकल्प फाउंडेशन व पंचकूला में एसीई ट्यूटोरियल और एलन में कोचिंग दी जा रही है. यहां एनडीए की प्रतियोगी परीक्षा व एसएसबी की तैयारी के लिए भी समुचित व्यवस्था की गई है। यह सुविधा अब सरकारी स्कूलों के लड़के-लड़कियों के लिए उपलब्ध होगी

Trending news