विशाल जूड ने सुनाई आपबीती, बोले- तिरंगा फहराने और हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने की मिली सजा
X

विशाल जूड ने सुनाई आपबीती, बोले- तिरंगा फहराने और हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने की मिली सजा

विदेशी धरती पर भारत का सम्मान बढ़ाने में भारतीय कभी भी पीछे नहीं रहे हैं. इस कड़ी में हरियाणा के छोरे विशाल जूड ने ऑस्ट्रेलिया की धरती पर हिंदुस्तान का जो सम्मान बढ़ाया है

विशाल जूड ने सुनाई आपबीती, बोले- तिरंगा फहराने और हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने की मिली सजा

पानीपत/राकेश भयाना: विदेशी धरती पर भारत का सम्मान बढ़ाने में भारतीय कभी भी पीछे नहीं रहे हैं. इस कड़ी में हरियाणा के छोरे विशाल जूड ने ऑस्ट्रेलिया की धरती पर हिंदुस्तान का जो सम्मान बढ़ाया है उससे हर भारतीयों का सीना गर्व से चौड़ा हो चुका है. विशाल जूड को भारतीय तिरंगा फहराने और हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने पर 6 महीने से अधिक की सजा मिली. जेल में  यातनाएं सहन करने के बावजूद भी भारत के लिए आज भी लड़ने को तैयार है.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल व करनाल सांसद संजय भाटिया के प्रयासों से विशाल जूड को रिहाई मिली. आज अपने पिता के साथ पानीपत पहुंचने पर विशाल जुड का उसके समाज के लोगों ने जोरदार स्वागत किया. विशाल जूड के पिता नाथी राम ने 36 बिरादरी का धन्यवाद करते हुए कहा कि विशाल जूड को रिहा करवाने में सभी बिरादरी ने सहयोग किया है. उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री ने विदेश मंत्रालय में जाकर जो बातचीत की उसका भी हम तहे दिल से धन्यवाद करते हैं.

पानीपत पहुंचने पर स्वागत करने के बाद विशाल जूड ने कहा कि किसान आंदोलन के पक्ष में प्रदर्शनकारियों के रूप में खालिस्तानियों ने भारत के खिलाफ नारे लगाने के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खिलाफ भी बोलने लगे. उसके बाद मैंने हिंदुस्तान का तिरंगा लहराने के बाद हिंदुस्तान जिंदाबाद के गाने लगा. उन्होंने कहा कि उसके बाद मुझे टारगेट करना शुरू कर दिया. विशाल ने कहा कि उसके बाद उन्होंने मेरे राइट और लेफ्ट कंधे पर मेटल से मुझ पर वार भी किया.

उन्होंने आगे बताया कि आस्ट्रेलिया की जेल में 6 से 7 महीने रखा गया जहां मुझे बड़ी यातनाये दी गई. विशाल जूड ने कहा कि जेल में खालिस्तानी भी काम करते थे वहां भी उन्होंने मुझे टॉर्चर करना शुरू कर दिया था. इन 6 से 7 महीने में जेल में मेरे साथ व्यवहार भी अच्छा नहीं रहा. इस दौरान मेरी जान को खतरा देखते हुए जेल सुपरवाइजर ने मुझे दूसरी जेल में भेज दिया. विशाल ने सरकार व समाज के साथ सभी 36 बिरादरियों का धन्यवाद करते  कहा कि जब कभी भी देश को जरूरत पड़ेगी हमेशा इस तरह से लड़ता रहूंगा.

जानें, क्या था पूरा मामला

आपको बता दें कि विशाल जूड को 16 सितंबर, 2020 और 14 फरवरी, 2021 के बीच होने वाले झगड़ों के तीन आरोपों में गिरफ्तार किया गया था. सुनवाई के दौरान अदालत में विशाल के वकील ने जूड को उकसाने का वीडियो भी कोर्ट में पेश किया था और इसी वीडियो की वजह से विवाद हुआ था. इसके बाद 16 अप्रैल, 2021 को विशाल को 6 महीने के लिए जेल भेज दिया गया था.

WATCH LIVE TV

Trending news