लाहौल-स्पीति में बादल फटने से 1 की मौत, 9 लापता, देखिए 45 दिनों के मानसून ने प्रदेश में मचाई कितनी तबाही?

हिमाचल प्रदेश में लगातार जारी बारिश के बीच हादसे हो रहे हैं. लाहौल-स्पीति में बादल फटने से 1 व्यक्ति की मौत होने की खबर है, तो वहीं 9 लोग लापता बताए जा रहे हैं. 

लाहौल-स्पीति में बादल फटने से 1 की मौत, 9 लापता, देखिए 45 दिनों के मानसून ने प्रदेश में मचाई कितनी तबाही?

संदीप सिंह/हिमाचल: हिमाचल प्रदेश में लगातार जारी बारिश के बीच हादसे हो रहे हैं. लाहौल-स्पीति में बादल फटने से 1 व्यक्ति की मौत होने की खबर है, तो वहीं 9 लोग लापता बताए जा रहे हैं. बीते 45 दिनों में हिमाचल प्रदेश में मानसून के चलते 400 करोड़ का नुकसान हो चुका है. प्रदेश में भारी बारिश आफत बनकर बरस रही है.

बता दें कि लाहौल-स्पीति में उदयपुर के पास बादल फटा है. इस हादसे में 1 की मौत हो गई है, 1 व्यक्ति घायल बताया जा रहा है. वहीं, हादसे के बाद से 9 लोगों के भी लापता होने की खबर है, जिसके बाद रेस्क्यू ऑपरेशन लगातार जारी है. झालमा पुल भी भारी बारिश के बाद टूट गया है, जिस वजह से स्थानीय लोगों के लिए भी दिक्कत बढ़ गई है. प्रशासन की टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई हैं.

ये भी पढ़े: OP चौटाला का समर्थन करते हुए CM खट्टर ने किसान आंदोलन को लेकर दिया बड़ा बयान

45 दिनों में 400 करोड़ का नुकसान

इस बार प्रदेश में मानसून भारी तबाही लेकर आया है. प्रदेश में 45 दिनों में 400 करोड़ से ज़्यादा का नुकसान हुआ है. लोक निर्माण विभाग को सबसे ज्यादा 271 करोड़ का नुकसान पहुंचा है. आईपीएच विभाग को 115 करोड़ की चपत लग चुकी है. आंकड़ों के मुताबिक 39 मकान ढह चुके हैं, जिनमें 33 मकान कांगड़ा, 3 शिमला-मंडी, बिलासपुर और चंबा में एक-एक मकान को नुकसान पहुंचा है. प्रदेश में 8 दुकानें, 6 पुल और 340 गोशालाएं भी बह चुकी हैं.

45 दिनों में मानसून ने ली 188 लोगों की जान

आपको बता दें कि सूबे में मॉनसून ने 188 लोगों को काल का ग्रास बना लिया. इस सीजन में सबसे ज्यादा 100 मौतें सड़क दुर्घटनाओं में हुई हैं, जबकि भूस्खलन से कांगड़ा में 10 लोगों की किन्नौर में 9 की मौत हुई है. शिमला में भी दो लोगों की मौत हुई है. 19 लोगों की मौत पानी में डूबने से हुई है. इतना ही नहीं मॉनसून के दौरान सांप के डसने से 7 लोगों की जान गई.

WATCH LIVE TV