हरियाणा के गांवों में तेजी से फैल रहा कोरोना संक्रमण- कुमारी सैलजा

कोरोना महामारी हरियाणा के शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में भी प्रवेश कर गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। गांवों में मृतकों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। 

हरियाणा के गांवों में तेजी से फैल रहा कोरोना संक्रमण- कुमारी सैलजा

 राज टाकया/रोहतक : कोरोना महामारी हरियाणा के शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में भी प्रवेश कर गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। गांवों में मृतकों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। 

कुमारी सैलजा ने  सोनीपत, यमुनानगर, पलवल और अंबाला जिले की कांग्रेस कोविड रिलीफ कमेटी की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक  के दौरान  हरियाणा सरकार सहित ग्रामीण इलाकों में कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए व्यापक कदम उठाने की बात कही ।‌

 गांवों में टेस्टिंग बढ़ाई जाए व अन्य स्वास्थ्य सेवाओं के इंतजाम किए जाएं। लापरवाही बड़ी जनहानि को निमंत्रण दे सकती है।  

 कुमारी सैलजा ने कहा कि कोरोना महामारी को लेकर हरियाणा में लॉकडाउन और धारा 144 लागू है, लेकिन भाजपा नेता कोरोना मरीजों की मदद के बजाय लॉकडाउन और धारा 144 की जमकर धज्जियां उड़ाकर हर जिले में धरने पर बैठे हैं। काश भाजपा नेता कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन, दवाइयों, बेड, वेंटीलेटर के लिए आवाज उठाते।
कुमारी सैलजा ने कहा कि कोरोना महामारी की रोकथाम में वैक्सीन बड़ा हथियार है। परंतु आज हरियाणा प्रदेश के अलग-अलग स्थानों से यह समाचार आ रहे हैं कि प्रदेश में वैक्सीन की भारी कमी है। टीकाकरण की रफ्तार बेहद धीमी गति से चल रही है। यह सरकार की नाकामी का बड़ा उदाहरण है।

 रोहतक के टिटौली गांव में 10 दिन में लगभग 40 ग्रामीणों की मौत ग्रामीणों में खौफ 

गौरतलब है कि रोहतक जिला मुख्यालय से दस किलोमीटर दूर गांव टिटौली के ग्रामीण लगातार हो रही मौतों से दहशत में हैं। 10 दिन में करीब 40 ग्रामीणों की मौत हो चुकी है।  इन मौतों के कारण तो स्पष्ट नहीं हो पाए हैं, लेकिन बुखार के बाद तबियत खराब होने की वजह सामने आई है। ग्रामीणों में कोरोना से ही मौत होने की चर्चा है। मरने वालों में बुजुर्ग, अधेड़, महिलाएं व युवा शामिल हैं। छह से सात मौत 40 वर्ष से कम उम्र के युवाओं की हुई हैं। अब प्रशासन हरकत में आ गया है और कोरोना संक्रमण जांचने के टेस्ट भी शुरू कर दिए गए हैं। यही नहीं गांव की गलियों में ट्रैक्टर में हवन करते घुमा जा रहा है।

इतना खौफ है कि अब तो गलियां भी सुनसान हो गई हैं। क्योंकि गांव में पिछले 10 दिन में लगभग 40 मौत हो चुकी हैं। इन मौत का कारण मरने से पहले बुखार आना बताया जा रहा है। लेकिन ग्रामीण मान रहे हैं कि शायद कोरोना संक्रमण की वजह से ही यह मौतें हुई है।

WATCH LIVE TV