कांग्रेस में G-23 नेताओं का हिमाचल की राजनीति में असर, घर में घिरे आनंद शर्मा, वीरभद्र ने दिया बड़ा बयान

पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर जिस तरह से हलचल तेज है उसी हलचल का असर हिमाचल प्रदेश की राजनीति में भी दिखने लगा है।  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा सांसद आनंद शर्मा के बंगाल चुनाव में गठबंधन वाले बयान को लेकर कांग्रेस नेता आमने सामने हैं.

कांग्रेस में G-23 नेताओं का हिमाचल की राजनीति में असर, घर में घिरे आनंद शर्मा,  वीरभद्र ने दिया बड़ा बयान
पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर हलचल तेज है

चंडीगढ़ :पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर जिस तरह से हलचल तेज है उसी हलचल का असर हिमाचल प्रदेश की राजनीति में भी दिखने लगा है।  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा सांसद आनंद शर्मा के बंगाल चुनाव में गठबंधन वाले बयान को लेकर कांग्रेस नेता आमने सामने हैं. पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह का बयान भी सामने आया है।

वीरभद्र सिंह ने किया राहुल का समर्थन
बंगाल प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने गुलाम नबी आजाद के साथ आनंद शर्मा पर भी बीजेपी के ध्रुवीकरण को हवा देने के आरोप लगाए हैं तो वहीं हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरभद्र सिंह ने भी राहुल गांधी का समर्थन करते हुए पार्टी के खिलाफ बोलने वालों को निशाने पर लिया है। इस दौरान वीरभद्र सिंह ने G-23 के मुद्दे पर कहा कि मैं नहीं जानता कि ये क्या है और इसमें कौन नेता है लेकिन मैं हमेशा असली कांग्रेस को समर्थन करता हूं और हमेशा असली कांग्रेस के साथ हूं।

ISF से कांग्रेस गठबंधन के बयान पर घिरे आनंद शर्मा
आनंद शर्मा ने इंडियन सेक्‍युलर फ्रंट (ISF) से कांग्रेस के गठबंधन पर नाराजगी जाहिर की थी, आनंद शर्मा ने कहा था कि ये फैसला गलत है इसकी चर्चा नेतृत्व को कार्यसमिति की बैठक में करनी चाहिए, जिसके बाद अधीर रंजन चौधरी ने उन पर जुबानी हमला बोला था. अब हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कांग्रेस के नेतृत्व खास तौर पर राहुल गांधी पर विश्वास जताते हुए कहा है कि राहुल गांधी कांग्रेस के नेताओं और कांग्रेस के दोबारा से उत्थान में पूरी तरह से सक्षम हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेताओं को कलह छोड़कर एक साथ आना चाहिए और राहुल गांधी का हाथ मजबूत करना चाहिए।

आपको बता दें कि एनएसयूआई से सक्रिय राजनीति में आने के बाद आनंद शर्मा को वीरभद्र सिंह ने ही प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष बनवाया था। सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नजदीकी होने पर भी आनंद शर्मा का प्रदेश की राजनीति में खूब हस्तक्षेप रहा है। जिसके चलते वो कई बार वीरभद्र सिंह के निशाने पर रहे हैं। अब एक बार फिर आनंद शर्मा की टिप्पणी को लेकर उन पर कई नेताओं की ओर से सवाल उठाए जा रहे हैं। वीरभद्र सिंह के बयान को भी इसी संदर्भ में देखा जा रहा है। हालांकि आनंद शर्मा के स्पष्ट कर चुके हैं कि उन्होंने पार्टी नेतृत्व पर सवाल नहीं उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि सोनिया गांधी के नेतृत्व में हम सभी विश्वास रखते हैं।

WATCH LIVE TV