कोविड संकट में एम्बुलेंस पर गंभीर मरीजों का दबाव, पुलिस ने लगा दी 5 इनोवा, Emergency में इस नंबर पर करें फोन

 हिसार के डीआईजी बलवान सिंह राणा ने 5 इनोवा गाड़ी कोविड काल में ऐसे मरीजों के लिए लगाई गई हैं जो पैरामेडिक व्यक्त हैं या फिर जिसे ऑक्सीजन की जरूरत हैं।

कोविड संकट में एम्बुलेंस पर गंभीर मरीजों का दबाव, पुलिस ने लगा दी 5 इनोवा, Emergency में इस नंबर पर करें फोन
रोहित कुमार/हिसार : पुलिस को अक्सर आपने पीसीआर या दूसरी गाड़ी में कैदियों या फिर किसी मामले के आरोपी को लेकर जाते देखा होगा, लेकिन हिसार पुलिस ने एक अनोखी मुहिम का आगाज किया हैं। हिसार के डीआईजी बलवान सिंह राणा ने 5 इनोवा गाड़ी कोविड काल में ऐसे मरीजों के लिए लगाई गई हैं जो पैरामेडिक व्यक्त हैं या फिर जिसे ऑक्सीजन की जरूरत हैं। मसलन, कोविड के गंभीर रोगियों के अलावा ये दूसरे मरीजों के लिए मददगार साबित होगी। खास बात यह हैं कि ये सरकारी अस्पताल में तैनात की गई है। कोविड 19 के रोगियों को घर से निशुल्क अस्पताल लाया जाएगा। मसलन अब एम्बुलेंस वाला सिंपल काम पुलिस की स्पेशल गाड़िया करती नज़र आएंगी। एम्बुलेंस वैसे भी इन दिनों गंभीर मरीजों के लिए वयस्त हैं, ऐसे में साधारण रोगियों के लिए पुलिस की यह कोशिश काबिलेतारीफ हैं।  हिसार के डीआईजी बलवान सिंह राणा ने कहा कि  पुलिस विभाग की इन इनोवा गाड़ियों को जरूरतमंद COVID-19 रोगियों को उनके घर से अस्पतालों / नर्सिंग होम तक मुफ्त में पहुंचाने के लिए प्रयोग किया जाएगा। कोरोना महामारी के दौरान एम्बुलेंस की कमी होने के कारण पुलिस विभाग द्वारा यह परिवहन सेवा प्रदान की गई है। इन पांचों इनोवा गाड़ियों को एंबुलेंस की कमी व निजी एबुलेंस मालिकों द्वारा ज्यादा किराए की मांग को देखते हुए परिवहन के रूप में प्रयोग करने के लिए सीएमओ, सिविल अस्पताल हिसार को उपलब्ध करवाया गया है।
 
इन नम्बर पर कॉल कीजिये, मिलेगी मदद
डीआईजी बलवान सिंह राणा ने बताया कि आमजन आपात स्थिति में पुलिस कंट्रोल रूम हिसार 100, 01662-237150, 88140-57100, 88140-58100 पर फोन कर इस सुविधा को निशुल्क प्राप्त कर सकते है और पुलिस कंट्रोल रूम के नंबरों के साथ 108 भी डायल कर सकते हैं। यह भी सुनिश्चित किया गया है कि इन वाहनों को चलाने वाले पुलिस कर्मी किसी भी संक्रमण के संपर्क में नहीं हैं और उन्हें ड्यूटी पर रहते हुए मास्क, दस्ताने पहनने, बार बार अपने हाथो को साबुन से धोने या सेनेटाइजर से साफ करने के लिए भी निर्देशित किया गया है। चालक पुलिस कर्मियों को महामारी के दौरान किसी भी जोखिम से बचने के लिए आगे की सीट और पीछे की सीट के बीच एक पारदर्शी विभाजन बनाया गया है।  यह केवल परिवहन सेवा है न कि एम्बुलेंस।  यदि रोगी गंभीर है और उसे पैरामेडिक व्यक्ति, ऑक्सीजन आदि की आवश्यकता है तो यह वाहन उपयुक्त नहीं है।
 
WATCH LIVE TV