गलियां बनी नदियां, तालाब में तब्दील हुई सड़के, बारिश ने फिर खोली BJP सरकार के दावों की पोल- हुड्डा
topStories0hindi

गलियां बनी नदियां, तालाब में तब्दील हुई सड़के, बारिश ने फिर खोली BJP सरकार के दावों की पोल- हुड्डा

पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि बारिश ने एक बार फिर बीजेपी सरकार द्वारा किए जा रहे विकास के दावों की पोल खोलकर रख दी है.

गलियां बनी नदियां, तालाब में तब्दील हुई सड़के, बारिश ने फिर खोली BJP सरकार के दावों की पोल- हुड्डा

विनोद लांबा/चंडीगढ़: पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि बारिश ने एक बार फिर बीजेपी सरकार द्वारा किए जा रहे विकास के दावों की पोल खोलकर रख दी है. उन्होंने कहा कि बारिश में तमाम दावे और करोड़ों रुपये की लागत से बनी सड़कें रेत के ढेर की तरह बह गए.

प्रदेश का ऐसा कोई जिला नहीं है जहां लोगों को बारिश के बाद सीवरेज जाम और जलभराव की समस्या का सामना नहीं करना पड़ रहा हो. गुरुग्राम से लेकर पंचकूला और झज्जर से लेकर कैथल तक में हर जगह सड़कें,  गलियां, मकान, दुकान और वाहनों के जलमग्न होने की तस्वीरें सामने आ रही हैं.

ये भी पढ़े: Weather Update: IMD की चेतावनी, हिमाचल में 14 लोगों की मौत, कई की तलाश जारी, जानें पूरे देश के हालात

फतेहाबाद, जींद, हिसार, महेंद्रगढ़ समेत कई जिलों की तस्वीरें देखकर लगता है कि गलियां नदियों में तब्दील हो गई हैं और सड़कें तालाब बन गई हैं. भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि जलभराव से सिर्फ आम जनजीवन ही नहीं बल्कि लोगों के कारोबार पर भी विपरीत असर पड़ रहा है. लंबे-लंबे पावर कट ने लोगों की परेशानी को और बढ़ा दिया है.

उन्होंने आगे कहा कि इतना ही नहीं करनाल समेत कई जिलों में जलभराव की वजह से किसानों की फसलें भी खराब हो गई हैं. सरकार को जल्द ही गिरदावरी करवाकर उचित मुआवजे का ऐलान करना चाहिए. इसी के साथ नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि जलभराव जानलेवा हादसों की भी वजह बन रहा है. स्पष्ट है कि सरकार ने जल निकासी के लिए कोई व्यवस्था नहीं की.

ये भी पढ़े: खराब मौसम के चलते CM जयराम ठाकुर का लाहौल हवाई दौरा हुआ रद्द, 21 लोगों की मौत, करोड़ों का नुकसान

उन्होंने आगे कहा कि कागजों में निकासी के नाम पर कई परियोजनाएं चल रही हैं और उन पर करोड़ों रुपए खर्च करने की बात भी कही जाती है. लेकिन, पूरे प्रदेश से सामने आ रही तस्वीरें बता रही हैं कि निकासी की इन परियोजनाओं के नाम पर सिर्फ घोटाले हुए हैं. कई जगह नई-नई बनी सीवरेज और सड़कें एक भी बारिश नहीं झेल पाए.

WATCH LIVE TV

Trending news