Sawan सोमवार: इस मुहूर्त और विधि-विधान से शिव की पूजा करने से दूरी होंगी सारी परेशानियां, बन रहे हैं ये विशेष संयोग

हिंदू धर्म के अनुसार सावन सावन माह के सोमवार को शिव भगवान के लिए व्रत रखना, पूजा अर्चना करने बेहद ही अहम माना जाता है. आज सावन महीने का दूसरा सोमवार है. 

Sawan सोमवार: इस मुहूर्त और विधि-विधान से शिव की पूजा करने से दूरी होंगी सारी परेशानियां, बन रहे हैं ये विशेष संयोग

नई दिल्‍ली: हिंदू धर्म के अनुसार सावन सावन माह के सोमवार को शिव भगवान के लिए व्रत रखना, पूजा अर्चना करने बेहद ही अहम माना जाता है. आज सावन महीने का दूसरा सोमवार है. आज दिन शिवलिंग का पंचामृत से अभिषेक करके बेलपत्र, धतूरा, भांग, सफेद फूल भगवान शिव को अर्पित करने से शिव जी प्रसन्‍न होते हैं.

लेकिन, इस बार सावन के दूसरे सोमवार पर एक खास संयोग बन रहा है. आज कृतिका नक्षत्र रहेगा और कृष्‍ण पक्ष की नवमी तिथि रहेगी. नवमी तिथि देवी दुर्गा को समर्पित है, सोमवार को चंद्र का दिन माना जाता है और कृतिका नक्षत्र के स्वामी सूर्य एवं शुक्र हैं. ऐसे में ज्योतिष के अनुसार यह दिन बहुत खास है.

सूर्य-चंद्र की भी पूजाः-

कहते हैं जब इस तरह के विशेष संयोग बनते हैं तो शिव जी की पूजा अर्चना करने से बहुत लाभ प्राप्त होता है. इसी के साथ आज दिन सूर्य और चंद्र देव की पूजा करने के लिए भी अच्‍छा है. इससे कुंडली में सूर्य और चंद्र का सकरात्‍मक असर बढ़ेगा. सावन के दूसरे सोमवार के दिन शुभ मुहूर्त में पूजा करने से सारी समस्‍याएं दूर होंगी.

ये भी पढ़े: Horoscope, 02 August 2021: अगस्त माह का पहला सोमवार, भूलकर भी न करें ये काम, वरना हो सकता है ये बड़ा नुकसान

शिव-पूजा के शुभ मुहूर्तः-

ब्रह्म मुहूर्तः- सुबह 04:47 बजे से 05:32 बजे तक

अभिजीतः- दोपहर 12:19 बजे से 01:11 बजे तक

गोधुली मुहूर्तः- शाम 07:01 बजे से 07:25 बजे तक

अमृत कालः- रात 08:01 बजे से 09:49 बजे तक

सावन सोमवार की पूजा-विधि

धर्म गुरू और शास्त्रों के अनुसार सावन सोमवार के दिन सुबह जलदी उठकर स्नान करें. मंदिर में दीपक जलाएं. व्रत का संकल्‍प लें. शिवलिंग को गंगा जल, कच्‍चे दूध से अभिषेक करें. सभी देवी-देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें. शिव जी को बेल पत्र, धतूरा, सफेल फूल चढ़ाएं.

सात्विक चीजों का भोग लगाकर आरती करें. इस दिन केवल फलाहार करें और पारणा अगले दिन करें. पूरे दिन में जितना संभव हो सके शिव जी की आराधना करें. शाम को भी शिव जी की आरती करें.

WATCH LIVE TV