अगर विदेश जाने का बना रहे हैं प्लान तो इस तारीख तक करना होगा इंतजार, सरकार ने लिया यह फैसला

कोरोना महामारी की तीसरी लहर को देखते हुए सरकार ने इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर प्रतिबंध एक बार फिर बढ़ा दिया है. ये डेडलाइन कल खत्म हो रही थी. हालांकि कुछ विशेष अनुमति वाली फ्लाइट्स सेवाएं देती रहेंगी.    

अगर विदेश जाने का बना रहे हैं प्लान तो इस तारीख तक करना होगा इंतजार, सरकार ने लिया यह फैसला
इसके पहले इंटरनेशनल कमर्शियल फ्लाइट्स पर 31 जुलाई, 2021 तक रोक लगाई गई थी, जिसे एक बार फिर बढ़ा दिया गया है.

नई दिल्ली : अपने काम से देश के बाहर जाने वाले लोगों को अभी और इंतजार करना पड़ेगा. कारण कोरोना महामारी (Covid-19) का खतरा अभी काम नहीं हुआ है. वायरस पर पूरी तरह काबू पाने के लिए सरकार कोई ढील नहीं देना चाहती.

कोरोना महामारी की तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार ने इंटरनेशनल फ्लाइट्स (International Flights) पर प्रतिबंध एक बार फिर बढ़ा दिया है. अब ये उड़ानें 31 अगस्त, 2021 तक बैन रहेंगी. 

31 अगस्त तक न तो भारत से कोई उड़ान जाएगी और न ही किसी दूसरे देश से कोई अंतरराष्ट्रीय उड़ान भारत में आएगी. एविएशन रेगुलेटर डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने इस बारे में आज एक सर्कुलर जारी कर दिया. 

 

DGCA ने ये फैसला कई देशों में कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट्स मिलने के बाद किया है. अमेरिका और कुछ यूरोपीय देशों में डेल्टा वेरिएंट्स मिलने के बाद कई देशों ने दूसरे देशों की फ्लाइट्स पर रोक लगा रखी है. 

कार्गो फ्लाइट्स पर पाबंदी नहीं 
DGCA के सर्कुलर के मुताबिक यह रोक अंतरराष्ट्रीय कार्गो फ्लाइट्स और उन उड़ानों पर लागू नहीं होगी, जिन्हें DGCA की ओर से अनुमति दी गई है. कुछ चुने हुए रूट्स पर इंटरनेशनल फ्लाइट्स को इजाजत दी जा सकती है. 

कई बार लग चुकी है रोक 
कोरोना महामारी की वजह से पिछले साल मार्च में अंतरराष्ट्रीय और घरेलू यात्री उड़ानों पर रोक लगाई गई थी. घरेलू उड़ानों को मई 2020 में कुछ शर्तों के साथ बहाल कर दिया गया था, लेकिन अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक जारी रही. मार्च 2020 के बाद से कई बार इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर रोक बढ़ाई जा चुकी है. 

इसके पहले इंटरनेशनल कमर्शियल फ्लाइट्स पर 31 जुलाई, 2021 तक रोक लगाई गई थी, जिसे एक बार फिर बढ़ा दिया गया है. 

कई देशों में एयर बबल व्यवस्था पर रोक 

'वंदे भारत' मिशन के तहत विशेष अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट पिछले साल मई से काम कर रही थी. कुछ देशों के साथ द्विपक्षीय एयर बबल व्यवस्था भी की गई थी. भारत ने 27 देशों के साथ एयर बबल करार किया था, इसमें US,UK, UAE, केन्या, भूटान और फ्रांस जैसे देश शामिल हैं. दो देशों को बीच हुए इस करार के तहत इन देशों की विशेष अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट दोनों देशों के क्षेत्र में उड़ान भर सकती हैं, लेकिन कोविड की दूसरी लहर के प्रकोप के कारण कई देशों इसे भी रोक दिया था.