सरकार से 500 रुपये की आस लगाए बैठे थे दो स्कूली बच्चे, खाते में रातोंरात आए 96 करोड़ रुपये
X

सरकार से 500 रुपये की आस लगाए बैठे थे दो स्कूली बच्चे, खाते में रातोंरात आए 96 करोड़ रुपये

इंटरनेट सेंटर पर जब बच्चों के परिजन ने खाते में बैलेंस चेक कराया तो एक बच्चे के खाते में 6 करोड़, जबकि दूसरे बच्चे के खाते में 90 करोड़ की राशि बताई गई. 

 

सरकार से 500 रुपये की आस लगाए बैठे थे दो स्कूली बच्चे, खाते में रातोंरात आए 96 करोड़ रुपये

नई दिल्ली : अगर आप बैंक खाते से कैश निकालने जाएं और अकाउंट डिटेल पूछने पर बैंककर्मी आपको यह बताए कि आप तो करोड़पति हैं तो या तो आप इसे मजाक समझेंगे या फिर हैरत से उछल पड़ेंगे.

ऐसा ही एक वाकया तब हुआ, जब स्कूल में पढ़ने वाले दो बच्चों के परिजन जब इंटरनेट सेंटर पर खाते का बैलेंस चेक करने के लिए पहुंचे तो अकाउंट में पड़ी राशि के बारे में सुनकर दंग रह गए. 

दरअसल दोनों बच्चों के खाते में सरकार की ओर से किताब और पोशाक राशि आनी थी. इंटरनेट सेंटर पर बैठे व्यक्ति ने बताया कि कक्षा 6 में पढ़ने वाले आशीष के खाते में 6 करोड़ 20 लाख 21 हजार 100 रुपये  (6,20,21,100 रुपये ) और गुरुचरण विश्वास के खाते में 90 करोड़ 52 लाख 21 हजार 223 रुपये ( 90,52,21,223) हैं.

यह सुनकर बच्चों के परिजन को विश्वास नहीं हुआ. उन्हें समझ ही नहीं आया कि उनके खाते में इतना कैश कहां से आया.  इस घटना के बाद पूरे गांव में अपना अकाउंट चेक करवाने को लेकर अफरातफरी मच गई. 

WATCH LIVE TV

कागजों में करोड़पति बने जब इन बच्चों से बात की गई तो आशीष ने बताया कि  उसके खाते में 6 करोड़ से ज्यादा रुपये कैश बताया गया, जबकि किताब खरीदने के लिए सरकार की ओर से अकाउंट में 500 रुपये आते हैं.

अकाउंट चेक करने की होड़ मची 

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना बिहार (Bihar) में कटिहार के आजमनगर प्रखंड स्थित पस्तिया गांव की है. इस घटना के बाद हर कोई करोड़पति बनने की चाहत में अपना बैंक अकाउंट चेक करा रहा है. रातोंरात करोड़पति बने दोनों बच्चों का खाता उत्तरी बिहार ग्रामीण बैंक में है. 

खाते किए गए फ्रीज

कटिहार के जिलाधिकारी उदयन मिश्रा के मुताबिक जैसे ही हमें दो बच्चों के खातों में पैसे जमा होने के बारे में पता चला, हमने खातों को फ्रीज कर दिया और निकासी बंद कर दी. जब बच्चों के माता-पिता से पूछताछ की गई तो वे फंड के स्रोत के बारे में नहीं बता पाए. 

हम यह पता लगाने के लिए मामले की जांच कर रहे हैं कि इतनी भारी भरकम राशि किसने भेजी. 

Trending news