Defamation case: जावेद अख्तर ने ट्रांसफर याचिका का किया विरोध, कंगना पर साधा निशाना
X

Defamation case: जावेद अख्तर ने ट्रांसफर याचिका का किया विरोध, कंगना पर साधा निशाना

रनौत ने पिछले महीने चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में एक अर्जी दाखिल कर अख्तर की मानहानि संबंधी शिकायत पर किसी और अदालत में सुनवाई करने की गुज़ारिश की थी. 

Defamation case: जावेद अख्तर ने ट्रांसफर याचिका का किया विरोध, कंगना पर साधा निशाना

मुंबई: बॉलीवुड के मशहूर गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने शुक्रवार को मुंबई की अदालत में दाखिल जवाब में कहा कि उनकी ओर से दायर आपराधिक मानहानि मामले (Defamation case) को ट्रांसफर करने के लिए अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) की अर्जी में कोई 'गुण नहीं है' और इसका मकसद सुनवाई के अमल में देरी करना है.

रनौत ने पिछले महीने चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में एक अर्जी दाखिल कर अख्तर की मानहानि संबंधी शिकायत पर किसी और अदालत में सुनवाई करने की गुज़ारिश की थी. कंगना ने कहा था कि मजिस्ट्रेट की अदालत के प्रति वह अपना यकीन खो' चुकी हैं क्योंकि उसने जमानती अपराध के मामले में पेश नहीं होने पर वारंट जारी कर बिलवास्ता तौर पर ‘धमकाया’ है.

ये भी पढ़ें: दिव्या अग्रवाल के इस ‘Cleaning Women’ लुक को देखकर दर्शक रह गए हैरान; उनके फैन्स बोले..

वहीं, आज जावेद अख्तर ने अपना लिखित जवाब अधिवक्ता जय भारद्वाज के जरिये दाखिल किया है. इसमें उन्होंने कहा, 'मौजूदा ट्रांसफर अर्जी सभी योग्यताओं से पाक है और यह पहली ही दहलीज पर खारिज करने योग्य है.

अख्तर ने इसके साथ ही कहा कि यह याचिका अंधेरी महानगर दंडाधिकारी की अदालत (जो मौजूदा समय में मामले की सुनवाई कर रही है) में चल रही सुनवाई के अमल को सिर्फ लटकाने के इरादे से दायर की गई है.

जवाब में कहा गया, 'जूदा आवेदन में जिस आधार का जिक्र किया गया है वह दरखास्तगुज़ार (रनौत) को समन करने के सात महीने के बाद पहली बार उठाया गया जिसका वाहिद मकसद मामले को लटकाना है.'

अख्तर ने कहा कि मजिस्ट्रेट अदालत में चल रही सुनवाई के खिलाफ अभिनेत्री ने कई याचिकाएं दायर की जिसे सत्र न्यायालय और बंबई उच्च न्यायालय दोनों ने खारिज कर दिया.

ये भी पढ़ें: Rakhi Sawant और उनके फ्रेंड ने दिखाया बेहद बोल्ड लुक, यूजर ने किया कुछ ऐसा कमेंट

गीतकार ने कहा कि उन्होंने (रनौत ने) हाई कोर्ट में भी ट्रांसफर की अर्जी दायर की है. हालांकि, उस अर्जी में कुछ खामियां थीं जिसकी वजह से उसे जरूरी प्रक्रिया का अनुपालन करने में ‘असफल’ करार दिया गया. उन्होंने कहा कि साफ तौर पर दिखाता है कि मौजूदा याचिका लंबित प्रक्रिया में देरी के हथकंडे के तहत दायर की गई है. इस मामले की सुनवाई 18 अक्टूबर को तय है. 

गौरतलब है कि जावेद अख्तर (76) ने पिछले नवंबर में अदालत में की गई शिकायत में दावा किया था कि रनौत ने टेलीविजन इंटरव्यू के दौरान उनके खिलाफ तौहीन आमेंज़ बयान दिया है जिससे उनके वकार को नुकसान पहुंचा है.
(इनपुट- भाषा)

Zee Salaam Live TV:

Trending news