15 दिन बाद याददाश्त आई, बेटे को देखकर ही भावुक हो गए पिता, 12 साल बाद ऐसे मिला परिवार
X

15 दिन बाद याददाश्त आई, बेटे को देखकर ही भावुक हो गए पिता, 12 साल बाद ऐसे मिला परिवार

युवक राजेंद्र के पिता अपने पुत्र को सही सलामत देख कर भावुक हो गये. उन्होंने बताया कि वो बेटे की उम्मीद कब से छोड़ चुके थे. पढ़िए पूरी खबर...

15 दिन बाद याददाश्त आई, बेटे को देखकर ही भावुक हो गए पिता, 12 साल बाद ऐसे मिला परिवार

राजनांदगांव: जिंदगी के 12 साल गुमनामी में गुजारने के बाद एक शख्स को खुद की पहचान याद आई और वो अपने घर परिवार से मिला. रायपुर का रहने वाला जितेन्द्र नाग विक्षिप्त अवस्था में 12 साल पहले घर से बिना किसी को बताये कहीं निकल गया था. इतने सालों तक वो कहां रहा किसी को  पता नहीं चला. परिजनों ने भी जितेन्द्र की खूब तलाश की आखिर वो भी थक हार कर चुप बैठ गये, लेकिन शुक्रवार को वो अपने बेटे से करीब 12 साल बाद मिले.

ये भी पढ़ें: आज बाबरी मस्जिद इनहिदाम की बरसी, 6 दिसंबर मनाने की ज़रूरत नहीं: इकबाल अंसारी

दरअसल, राजनांदगांव जिले के खैरागड़ की सड़कों पर गंदे कपड़ों और बड़े हुए बालों वाले विक्षिप्त युवक पर खैरागड़ तालुका जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैरालीगल वॉलेंटियर गोकुल दास और मोरध्वज की नजर पड़ी. जहां वो कचरे में पड़ा खराब खाना खा रहा था. जिसके बाद दोनों वॉलेंटियर उसे अस्पताल लेकर गए.

रेफर किया दूसरे अस्पताल
वॉलेंटियर ने उस युवक को पहले खैरागढ़ स्थित स्वास्थ्य केन्द्र में दाखिल किया, लेकिन मानसिक रोगी होने की वजह से खैरागढ़ स्वास्थ्य केन्द्र के डाक्टरों ने उसे राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज अस्पताल के लिये रेफर कर दिया. राजनांदगांव के अस्पताल के मनोरोग विभाग में डॉक्टर शरद मनोर और डॉक्टर श्राफ ने युवक का इलाज शुरू किया.

15 दिन बाद याद आया
इलाज के 15 दिनों बाद युवक को खुद के बारे में धीरे-धीरे कुछ याद आने लगा. डॉक्टरों के पूछने पर उसने अपना नाम जितेन्द्र नाग बताया और खुद को रायपुर का निवासी बताया. इसके बाद राजनांदगांव जिलाविधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव प्रवीण मिश्रा ने रायपुर पुलिस से संपर्क कर युवक के बताये गए पते के अनुसार परिजनों के बारे में जानकारी जुटाई तो सही पाई गई. जिसके बाद प्रवीण मिश्रा ने युवक के परिजनों को राजनांदगांव बुलाकर सुपुर्द किया.

पिता छोड़ चुके थे उम्मीद
युवक राजेन्द्र के पिता अपने पुत्र को सही सलामत देख कर भावुक हो गये. उन्होंने बताया कि वह बेटे की उम्मीद कब से छोड चुके थे. प्राधिकरण ने वाहन की व्यवस्था कर उन्हें रायपुर भिजवाया. राजनांदगांव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव प्रवीण मिश्रा ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि हमारे वॉलेंटियर्स द्वारा मानव सेवा के लिये अनुकरणीय कार्य किया जा रहा है. उन्होंने आमजनों और मीडिया के लोगों से भी अपील की है कि इस तरह से भटके हुए मानसिक रूप से विक्षित मनोरोगियों के बारे मे हमें जानकारी दें ताकि वे उन्हें उनके परिजनों तक सुरक्षित पहुंचा सकें.

ये भी पढ़ें: एक बर्गर खाने के लिए 2 लाख रुपये खर्च कर गया ये शख्स, वजह कर देगी हैरान

ये भी पढ़ें: ठंड के मौसम में सुबह की धूप के हैं कई फायदे, देखें 10 गुण

MP WATCH LIVE TV

Trending news