सदियों से मुल्क की हिफाजत और सलामती में मुसलमानों ने निभाया अहम किरदार: अजित डोभाल

मीटिंग के दौरान ऑल इंडिया सूफी सज्जादानशीन काउंसिल के संस्थापक अध्यक्ष सईद नसरुद्दीन चिश्ती ने कहा,"हम इस देश में किसी भी प्रकार के कट्टरता को बर्दाश्त नहीं करेंगे.

सदियों से मुल्क की हिफाजत और सलामती में मुसलमानों ने निभाया अहम किरदार: अजित डोभाल

नई दिल्ली: ऑल इंडिया सूफी सज्जादानशीन काउंसिल के वफद ने आज राष्ट्रीय सिक्योरिटी सलाहकार अजित डोभाल (Ajit Doval) से मुलाकात की. इस मौके पर जहां दरगाहों की अहमियत और तरक्की पर बात हुई वहीं मुल्क में आपसी भाईचारा बढ़ाने पर भी जोर दिया गया. 

यह भी पढ़ें: पिता को याद कर जज्बाती हुए मोहम्मद सिराज, कहा-"काश अब्बू आज का दिन देखने के लिए जिंदा होते"

इस मौके पर अजित डोभाल ने मुल्क के लिए मुसलमानों के खिदमात को भी याद किया. एनएसए अजित डोभाल ने कहा कि सदियों से इस मुल्क की हिफाजत और सलामती के लिए मुसलमानों का अहम किरदार रहा है. जिसे मौजूदा दौर में बरकार रखने की जरूरत है.

यह भी पढ़ें: पति को दिया तलाक और 21 साल के सौतेले बेटे से कर ली शादी, कम उम्र दिखने के लिए यह काम

20 मजहबी नेताओं के डेलिगेशन में अजमेर के सजदा नशीन के अलावा, दिल्ली में मौजूद हजरत निजामुद्दीन औलिया दरगाह के सजदा नशीन भी शामिल रहे. मीटिंग में लगातार बिखरती जा रही मुल्क की गंगा जमुनी तहजीब को बचाने पर भी चर्चा हुई. 

यह भी पढ़ें: 8 माह के बेटे को बीच सड़क में कुल्हाड़ी से काटकर बोली मां- यह बकरा था, जिसका था उसने ले लिया

मीटिंग के दौरान ऑल इंडिया सूफी सज्जादानशीन काउंसिल के संस्थापक अध्यक्ष सईद नसरुद्दीन चिश्ती ने कहा,"हम इस देश में किसी भी प्रकार के कट्टरता को बर्दाश्त नहीं करेंगे. सूफियों को कट्टरता और अतिवाद के खिलाफ बोलने के लिए प्रतिबद्ध किया गया है. हमारे युवाओं को सोशल मीडिया के जरिए से कट्टरपंथी बनाया जा रहा है. युवाओं को नकली संदेशों और कट्टरपंथी संगठनों के बारे में पता होना चाहिए," 

यह भी पढ़ें: 51 साल की जेनिफर लोपेज ने न्यूड होकर शूट कराया गाना, देखिए HOT SONG

चिश्ती ने कहा कि कट्टरपंथ, जो देश में फैल गया है, केवल सूफी संस्कृति के माध्यम से रोका जा सकता है. ऐसे में सरकार को सज्जादा नशीन और सूफी संस्कृति को बढ़ावा देना चाहिए. चिश्ती ने आगे कहा,"हम सूफियों की मूल समस्याओं के बारे में यहां आए थे. डोभाल साहब ने बहुत धैर्य से हमारी बात सुनी और हमें भरोसा है कि हमारी शिकायतों को सरकार तक पहुंचा दिया जाएगा."

यह भी पढ़ें: WhatsApp की नई Privacy Policy पर हाईकोर्ट ने कहा- निजता भंग होती है तो कर दें डिलीट

याद रहे वक्त-वक्त पर NSA अजित डोभाल मुस्लिम मजहबी रहनुमाओं से मुलाकात कर मौजूदा हालात का जायजा लेते रहते हैं. जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के खात्मे के बाद डोभाल कश्मीर के आवाम से मिलने भी पहुंचे थे. जबकि उससे पहले दिल्ली फसाद के दौरान पीड़ित इलाकों का दौरा कर डोभाल ने लोगों की यकीन बहाली में अहम किरदार अदा किया था.

ZEE SALAAM LIVE TV