लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ एमएम नरवणे, सिक्योरिटी तैयारियों का लेंगे जायज़ा

पैंगोंग में चीन के अतिक्रमण की कोशिश नाकाम हुई. ब्लैक टॉप पर हिंदुस्तानी फौज ने कंट्रोल कर लिया. इसके अलावा, 1962 में रेकिन ला और रेजिंग ला पर चीन ने कब्जा कर लिया था, उस पर हिंदुस्तान ने दोबारा कब्ज़ा कर लिया. 

लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ एमएम नरवणे, सिक्योरिटी तैयारियों का लेंगे जायज़ा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: LAC पर चीन के साथ कशीदगी के बीच आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे जुमेरात को लद्दाख पहुंचे. आर्मी चीफ 2 दिन के दौरे पर सिक्योरिटी तैयारियों का जायज़ा करेंगे. नरवणे का दौरा ऐसे वक्त में हुआ है, जब भारतीय फौज ने पिछले एक हफ्ते में चीन को कई बार शिकस्त दी है. 

पैंगोंग में चीन के अतिक्रमण की कोशिश नाकाम हुई. ब्लैक टॉप पर हिंदुस्तानी फौज ने कंट्रोल कर लिया. इसके अलावा, 1962 में रेकिन ला और रेजिंग ला पर चीन ने कब्जा कर लिया था, उस पर हिंदुस्तान ने दोबारा कब्ज़ा कर लिया. 

लद्दाख की पैंगॉन्ग लेक के किनारे पहली बार चीन जंग लड़ने से पहले ही कई मोर्चों पर हारने लगा है. लद्दाख में पैंगोंग झील का जनूबी हिस्सा अब पूरी तरह से भारत के कंट्रोल में है. यहां पर कई पहाड़ी चोटियों पर अब भारत का कब्ज़ा हो चुका है. 

चीन ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उसके तौसीपसंद (विस्तारवाद) पर हिंदुस्तान का पंच इतना तगड़ा होगा. हिंदुस्तान के ऑपरेशन ब्लैक टॉप का पंच इतना तगड़ा है कि चीन तिलमिला उठा है. ऑपरेशन ब्लैक टॉप ये एक ऐसा ऑपरेशन था जिसने चीन की फौज को भी हैरान कर दिया. 

Zee Salaam LIVE TV