कृष्ण जन्मभूमि विवाद पर असदुद्दीन ओवैसी ने दिया बड़ा दिया, जानिए क्या कहा

ओवैसी ने ट्वीट किया, 'शाही ईदगाह ट्र्रस्ट और श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ ने इस मसले का निपटारा साल 1968 में ही कर लिया था.

कृष्ण जन्मभूमि विवाद पर असदुद्दीन ओवैसी ने दिया बड़ा दिया, जानिए क्या कहा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: ऑल इंडिया मुस्लिम इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के सद्र (Chief) असदुद्दीन ओवैसी ने कृष्ण जन्मभूमि तनाज़े (विवाद) को लेकर बड़ा दिया है. उन्होंने कहा कि जब साल 1968 में ही फैसला हो गया था तो इसे फिर से ज़िंदा करने की क्या ज़रूरत है. ओवैसी ने कहा कि प्लेसेज़ ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 के मुताबिक किसी भी इबादत के मकाम के बदलने पर मनाही है. ऐसा नहीं किया जा सकता है. 

ओवैसी ने ट्वीट किया, 'शाही ईदगाह ट्र्रस्ट और श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ ने इस मसले का निपटारा साल 1968 में ही कर लिया था. इसे अब फिर से ज़िंदा क्यों किया जा रहा है?'

बता दें कि मथुरा की एक अदालत में इस जगह को लेकर एक अर्ज़ी दाखिल की गई है. अर्ज़ी में कहा है कि ये भगवान कृष्ण के भक्तों के लिए बहुत मुकद्दस है. अर्ज़ी में पूरी 13.37 एकड़ ज़मीन को लेकर दोबारा दावा किया गया है. यह अर्ज़ी वकील विष्णु जैन ने दाखिल की है और उन्होंने कहा है कि साल 1968 में जो समझौता किया गया था वो गलत था और शाही ईदगाह मस्जिद को वहां हटाया जाना चाहिए. 

Zee Salaam LIVE TV