Assam Election: बीजेपी से अलग हुई बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट, इतनी सीटें जीतने का किया दावा

असम विधानसभा चुनाव से पहले सत्ताधारी पार्टी बीजेपी से बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (Bodoland Peoples Front) ने किनार कर लिया है. बीपीएफ के अध्यक्ष हग्रमा मोहिलिरे (Hagrama Mohilary) ने सोशल मीडिया के जरिए एनडीए गठबंधन से अलग होने की जानकारी दी.

Assam Election: बीजेपी से अलग हुई बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट, इतनी सीटें जीतने का किया दावा
BPF अध्यक्ष हग्रमा मोहिलिरे (फाइल फोटो)

गुवाहाटी: असम विधानसभा चुनाव से पहले सत्ताधारी पार्टी बीजेपी से बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (Bodoland Peoples Front) ने किनार कर लिया है. बीपीएफ के अध्यक्ष हग्रमा मोहिलिरे (Hagrama Mohilary) ने सोशल मीडिया के जरिए एनडीए गठबंधन  से अलग होने की जानकारी दी. बीते शनिवार को सोशल मीडिया पर एक पोस्ट करते हुए लिखा- राज्य में एकता, शांति और विकास के लिए स्थिर सरकार जरूरी है. इसलिए बीपीएफ (बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट) ने महागठबंधन में शामिल होने का फैसला किया है. 

क्या बोले  हग्रमा मोहिलिरे
असम में कांग्रेस के नेतृत्व वाले महागठबंधन के साथ हाथ मिलाने के बाद, BPF के अध्यक्ष हग्रमा मोहिलिरे ने कहा कि वे 70 सीटों के साथ सरकार बनाएंगे. साथ ही पार्टी प्रमुख ने दावा किया कि कांग्रेस, ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF) और अन्य के गठबंधन को आगामी विधानसभा चुनावों में पूर्ण बहुमत मिलेगा.

असम में बनेगी हमारी सरकार 
गुवाहाटी में रविवार को प्रेस को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हम निश्चित रूप से सरकार बनाएंगे. हमें असम से भाजपा को बाहर करना है. सरकार बनाने के लिए चौंसठ सीटों की आवश्यकता होती है. हम 70 सीटें जीत रहे हैं.

फुरफुरा शरीफ पीरजादा अब्बास सिद्दीकी बोले- बंगाल में हमारा दखल होगा, रक्षा के लिए खून भी देने को तैयार

 

असम महागठबंधन में कौन-कौन सी पार्टियां हैं 
असम में बीजेपी को घेरने के लिए कांग्रेस ने एआईयूडीएफ, भाकपा, माकपा, भाकपा (माले) ,  और आंचलिक गण मोर्चा (एजीएम) के साथ पहले महागठबंधन का गठन किया था. लेकिन बीते शनिवार को महागठबंधन के साथ बीपीएफ और राजद भी जुड़ गए.  

2016 में असम में पहली बार खिला था कमल 
बता दें कि  2016 में भारतीय जनता पार्टी ने इतिहास रचा था और कांग्रेस के 15 साल के शासन को समाप्त करने वाली राज्य में पहली बार सरकार बनाई. भाजपा और उसके सहयोगी असम गण परिषद (एजीपी) और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) ने 126 सदस्यीय असम विधानसभा में एनडीए ने 86 सीटें जीतीं. बीजेपी को 60 सीटें, एजीपी को 14 और बीपीएफ को 12 सीटें मिलीं. तरुण गोगोई के नेतृत्व वाली कांग्रेस को बड़ा झटका लगा था. पार्टी 26 सीटों पर सिमट गई थी. 

कौन है बोडो जनजाति
बोडो ब्रह्मपुत्र घाटी के उत्तरी हिस्से में बसी असम की सबसे बड़ी जनजाति है. यह राज्य की कुल आबादी के पांच से छह प्रतिशत से अधिक हैं. बोडो समुदाय के लोग पूर्वोत्तर भारत के असम राज्य के मूल निवासी हैं तथा भारतीय संविधान की छठी अनुसूची के अंतर्गत भारत की एक महत्त्वपूर्ण जनजाति है. असम के चार जिले कोकराझार (Kokrajhar), बक्सा (Baksa), उदलगुरी (Udalguri) और चिरांग (Chirang) बोडो प्रादेशिक क्षेत्र जिला (Bodo Territorial Area District- BTAD) का गठन करते हैं.

LIVE TV