चंद्रयान-3 को लेकर आई बड़ी खुशखबरी, 2021 में हो सकती ही लॉन्चिंग

उन्होंने आगे बताया कि चंद्रयान-3 के साथ-साथ ISRO खला (अंतरिक्ष) में इंसान को भेजने के हिंदुस्तान के पहले मिशन 'गगनयान' की तैयारियां भी कर रही है.

चंद्रयान-3 को लेकर आई बड़ी खुशखबरी, 2021 में हो सकती ही लॉन्चिंग
चंद्रयान-2 की फाइल फोटो

नई दिल्ली: इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (ISRO) के पिछले साल के मिशन चंद्रयान-2 के बाद चंद्रयान-3 को लेकर बड़ी खबर आ रही है. मरकज़ी वज़ीर जितेंद्र सिंह ने बताया है कि हिंदुस्तान मिशन चंद्रयान-3 अगले साल में लॉन्च कर सकता है. साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि इसमें ऑर्बिटर के बजाय एक 'लैंडर' और एक 'रोवर' होगा. उन्होंने बताया कि यह मिशन चंद्रयान-2 के रिपीट जैसा ही होगा.

मरकज़ी वज़ीर जितेंद्र सिंह ने आगे बताया कि पिछले साल सितंबर में चंद्रयान-2 की चांद पर 'हार्ड लैंडिंग' के बाद राब्ता टूट गया था. इसके बाद इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइज़ेशन (ISRO) ने चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग का मंसूबा बनाया था. कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन की वजह से इसकी लॉन्चिंग में देरी होती चली गई. अब इसकी लॉन्चिंग 2021 की शुरूआत में होने की मुमकिन है. 

उन्होंने आगे बताया कि चंद्रयान-3 के साथ-साथ ISRO खला (अंतरिक्ष) में इंसान को भेजने के हिंदुस्तान के पहले मिशन 'गगनयान' की तैयारियां भी कर रही है. 

बता दें कि पिछले साल ISRO ने मिशन चंद्रयान-2 के तहत चांद के जनूबी (दक्षिणी) हिस्से पर सॉफ्ट लेंडिंग करनी थी लेकिन 7 सितंबर को लैंडर विक्रम की हार्ड लैंडिंग की वजह राब्ता टूट के साथ साथ हिंदुस्तान का ख्वाब टूट गया था. अगर इसमें कामयाबी मिल जाती तो हिंदुस्तान चांद के जनूबी हिस्से पर उतरने वाला दुनिया का पहला मुल्क बन जाता.

हालांकि राब्ते टूटने के बावजूद चंद्रयान-2 का आर्बिटर अब भी अच्छा काम कर रहा है और चांद से लगातार जानकारी भेज रहा है. साल 2008 में लॉन्च किए गए चंद्रयान-1 ने भी कुछ तस्वीरें भेजी हैं.

Zee Salaam Live TV