अजब-गजब: हमारी भैंस के मुंडन में जलूल-जलूल आना और दावत भी खाके जाना

28 अक्टूबर को भैंस और सभी रिश्तेदारों को राजघाट मौजूद गंगा तट ले जाकर सभी रिश्तेदारों और इलाके के सैकड़ों लोगों की मौजूदगी में पूरी रीति रिवाज से भैंस का मुंडन संस्कार कराया गया.

अजब-गजब: हमारी भैंस के मुंडन में जलूल-जलूल आना और दावत भी खाके जाना
फाइल फोटो

प्रदीप शर्मा/संभल: मुंडन संस्कार में शामिल होकर आपने खूब दावतें खाई होंगी लेकिन यूपी के संभल जिले में एक गजब मुंडन का आयोजन हुआ. चौंकाने वाली बात यह है कि मुंडन संस्कार किसी बच्चे का नहीं बल्कि एक भैंस का हुआ. किसान ने बाकायदा पूरे इलाके में 500 से ज्यादा लोगों के लिए भोज का आयोजन किया. भैंस का मुंडन संस्कार कराए जाने के मामले की चर्चा संभल जिले में ही नहीं आसपास के कई जिलों के लोगों की जुबान पर है. 

यह अजब -गजब मामला संभल के नंदरौली गांव का है. गांव के किसान नेम सिंह ने बताया की उसने परिवार के भरण-पोषण के लिए खेती बाड़ी के साथ ही कई भैंसें पाल रखीं हैं. लेकिन कई सालों से उनके यहां पल रही भैंसो के बछड़े की पैदा होते ही मौत हो जाती हैं. यह बात उसने अपने एक रिश्तेदार को बताई तो रिश्तेदार ने उसे सलाह दी कि वह गंगा के किनारे भैंस का मुंडन संस्कार कराए तो भैंस के बछड़ो की मौच नहीं होगी. रिश्तेदार के इस सुझाव के बाद किसान ने भैंस के मुंडन संस्कार प्रोग्राम में रिश्तेदारों और इलाके के लोगों को दावत देने के लिए बाकायदा दावतनामा छपवा कर सभी को बुलाया गया.

28 अक्टूबर को भैंस और सभी रिश्तेदारों को राजघाट मौजूद गंगा तट ले जाकर सभी रिश्तेदारों और इलाके के सैकड़ों लोगों की मौजूदगी में पूरी रीति रिवाज से भैंस का मुंडन संस्कार कराया गया. खास बात यह थी की भैंस के मुंडन संस्कार के सभी काम बच्चों के मुंडन संस्कार की तरह कराए गए.  मुंडन संस्कार के बाद किसान नेम सिंह ने अपने गांव नंदरोली पहुंचकर भैंस के मुंडन संस्कार की ख़ुशी में लगभग 500  लोगों को खाना भी कराया.

Zee Salaam LIVE TV