महाराष्ट्र: CAA की मुखालिफत में तंज़ीमों की CJI को खत भेजने की मुहिम शुरू

महाराष्ट्र: महाराष्ट्र की करीब एक दर्जन तंज़ीमों ने चीफ जस्टिस आफ इंडियो (CJI) एसए बोबडे को पोस्ट कार्ड के जरिये नाराज़गी जताने की मुहिम शुरू की है. CAA के खिलाफ अवामी नाराज़गी का ज़िक्र करते हुये 22 जनवरी से पहले एक लाख खत भेजने का हदफ रखा गया है

महाराष्ट्र: CAA की मुखालिफत में तंज़ीमों की CJI को खत भेजने की मुहिम शुरू

महाराष्ट्र: महाराष्ट्र की करीब एक दर्जन तंज़ीमों ने चीफ जस्टिस आफ इंडियो (CJI) एसए बोबडे को पोस्ट कार्ड के जरिये नाराज़गी जताने की मुहिम शुरू की है. CAA के खिलाफ अवामी नाराज़गी का ज़िक्र करते हुये 22 जनवरी से पहले एक लाख खत भेजने का हदफ रखा गया है.

मरकज़ी हुकूमत के तल्ख रूख के बीच कई अपोज़ीशन जमाअतों की रियासतों ने CAA के निफाज़ से इंकार कर दिया है. जिसमें मगरिबी बंगाल, पंजाब , मध्य प्रदेश , राजस्थान, छत्तीसगढ बिहार जैसी रियासतें शामिल हैं. केरल असमबली में इसके खिलाफ तो गुजरात असंबली मे इस कानून की हिमायत मे तजवीज़ पास की गयी है.इस बीच महाराष्ट्र हुकूमत ने भी CAA की मुखालिफत का इशारा दिया है.

नये शहारिय कानून के खिलाफ एक तकरीब में शिरकत करने पहुंचे वज़ीरे दाखला अनिल देशमुख पुर अमन एहतजाजियों की हिमायत करते नज़र आये. उन्होने कहा कि सभी तबकों के लोग यहाँ आपसी भाईचरे को कायम रखते हुये यहाँ रहते हैं लेकिन हिंदु-मुस्लिम के दरमियान दराड़ पैदा करने का काम सरकार कर रही है जिसकी हम मज्ज़म करते है. उन्होने मजीद कहा कि महाराष्ट्र में हमारी हुकूमत है और में आपके यह बता देना चाहता हूं कि कानून भले ही मरकज़ी हुकूमत बनाये लेकिन उसका निफाज़ हमारे हाथों मे होता है. 

CAA को लेकर दीगर रियासतों में भी जमकर हंगामा हो रहा है. तमिलनाडू के बाद आज असम असंबली में भी AIUDF अरकान धरने पर बैठ गये असंबली गेट का ताला बंद करने वाले अरकान का कहना है कि रियासता हुकूमत असम की आवाज़ को मरकज़ तक नहीं पहुंचा रही है.