देशद्रोह के मामले में शरजील इमाम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, मुल्क मुख़ालिफ़ बयान का इल्ज़ाम

13 दिसंबर 2019 को जेएनयू के छात्र शरजील इमाम ने शाहीन बाग में मुतनाज़ा बयान देते हुए मुल्क को तोड़ने की बात कही थी

देशद्रोह के मामले में  शरजील इमाम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, मुल्क मुख़ालिफ़ बयान का इल्ज़ाम

नई दिल्‍ली: शहरियत तरमीमी एक्ट और NRC की मुखालिफत के दौरान शुमाल मश्रिकी रियासतों (असम) को हिंदुस्तान से अलग करने का बयान देने वाले शरजील इमाम के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट दाखिल की है. दिल्ली पुलिस ने शरजील इमाम के ख़िलाफ़ दिल्ली में दंगे भड़काने के मामले में देशद्रोह की धारा के तहत चार्जशीट दाखिल की. 

गौरतलब है कि 13 दिसंबर 2019 को जेएनयू के तलबा शरजील इमाम ने शाहीन बाग में मुल्क मुखालिफ बात करते मुल्क तोड़ने की बात कही गई थी. उसके बाद 15 दिसंबर को जामिया नगर और न्‍यू फ्रेंडस कॉलोनी में दंगे हुए थे. इससे पहले शहरियत तरमीमी एक्ट के मुखालिफत में मुल्कभर में भड़काऊ खिताब देने के आरोपी शरजील इमाम (Sharjeel Imam) ने क्राइम ब्रांच की पूछताछ में जो खुलासे किए हैं, वह बेहद चौंकाने वाले हैं. ज़राए के मुताबिक पूछताछ के दौरान शरजील इमाम ने कबूल किया था कि वीडियो में जो भी मुल्क मुखालिफ़ बयान दे रहा है वह उसी के हैं

शरजील इमाम को इस बात का अंदाज़ा था कि इस तरह के मुतनाज़ा बयान के बाद पुलिस उसे गिरफ्तार कर सकती है, बावजूद उसने भड़काऊ बयान दिए.जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के मामले में दिल्ली पुलिस ने शरजील को 28 जनवरी को बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया.

शरजील इमाम (Sharjeel Imam) ने क्राइम ब्रांच को पूछताछ में बताया कि हिंदुस्तान में मुसलमानों के साथ जिस तरह का बर्ताव हो रहा है उससे वो काफी आहत है, इसलिए वह चाहता है कि हिंदुस्तान को एक इस्लामिक राष्ट्र होना चाहिए. क्राइम ब्रांच को जिस तरह वो बयान दे रहा था उसको देख और सुनकर क्राइम ब्रांच के अफसरों को लगा कि हाईली रेडिकलाइज शरजील के अंदर हिंदुस्तान को लेकर काफी गुस्सा है.

शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद का रहने वाला है. वह जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के सेंटर फॉर हिस्टोरिकल स्टडीज का तलबा है. शरजील की फेसबुक प्रोफाइल के मुताबिक, वह आईआईटी बॉम्बे से कंप्यूटर साइंस में पोस्ट ग्रेजुएशन भी कर चुका है.

Watch Zee Salaam Live TV