पीरजादा अब्बास सिद्दीकी की पार्टी से गठबंधन को लेकर कांग्रेस में कलह, आनंद शर्मा ने बताया- शर्मनाक, वजह भी बताई

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने सोमवार को ट्वीट करते हुए कहा कि 'आईएसएफ जैसे दलों के साथ कांग्रेस का गठबंधन पार्टी की मूल विचारधारा के खिलाफ है. 

पीरजादा अब्बास सिद्दीकी की पार्टी से गठबंधन को लेकर कांग्रेस में कलह, आनंद शर्मा ने बताया- शर्मनाक, वजह भी बताई
फाइल फोटो

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) में कांग्रेस (Congress) ,सीपीएम (CPM) और फुरफुरा शरीफ पीरजादा अब्बास सिद्दीकी की पार्टी  इंडियन सेक्युलर फ्रंट (ISF) ने एक साथ मिलकर चुनाव लड़ने का ऐलान किया है लेकिन कांग्रेस और आईएसएफ के गठबंधन पर पार्टी के अंदर ही विरोध होने लगा है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने इस गठबंधन पर बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी से सवाल किया है. सवाल ऐसे समय पर किया है जब आईएसएफ और कांग्रेस के बीच पहले से ही सीटों के बंटवारे को लेकर गठबंधन में कलह जारी है. 

कांग्रेस की विचारधारा के खिलाफ है ISF से गठबंधन 
कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने सोमवार को ट्वीट करते हुए कहा,'आईएसएफ जैसे दलों के साथ कांग्रेस का गठबंधन पार्टी की मूल विचारधारा के खिलाफ है. जो कि गांधी और नेहरू के धर्मनिरपेक्षता वाले सिद्धांत पर आधारित है. इन मुद्दों को कांग्रेस कार्य समिति पर चर्चा होनी चाहिए थी'.

गठबंधन को बताया शर्मनाक 
पीरजादा अब्बास सिद्दीकी की नवगठित पार्टी आईएसएफ के साथ गठबंधन को शर्मनाक बताते हुए उन्होंने ट्वीट के जरिए कहा-  'सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने में कांग्रेस चयनात्मक रुख नहीं अपना सकती. इस गठबंधन का समर्थन करना दर्दनाक और शर्मनाक है. इसपर बंगाल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष को सफाई देनी चाहिए. कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष हैं'.

BJP कार्यकर्ता की मां बोली, "TMC वर्कर्स ने किया जानलेवा हमला, गर्दन और सिर पर किए वार"

बता दें कि रविवार को कोलकाता के बिग्रेड मैदान पर कांग्रेस, सीपीएम, और अब्बास सिद्दीकी की पार्टी आईएसएफ ने मिलकर एक संयुक्त रैली का आयोजन किया था. जहां पर अब्बास सिद्दीकी ने मंच से कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा,'कांग्रेस के साथ उनका कोई समझौता नहीं हुआ है, यहां पर हम भागीदारी करने आए हैं. किसी से भीख मांगने नहीं'. इस रैली में भारी सख्यां में अब्बास सिद्दीकी के समर्थक प्रदेश भर से कोलकाता पहुंचे थे. जहां पर पीरजादा ने कहा था कि अगर यह गठबंधन पहले हुआ होता तो और अधिक लोग यहां मौजूद होतें.

LIVE TV