जौहर यूनिवर्सिटी मामले को लेकर आजम खान की हिमायत में उतरे दिग्विजय, CM योगी से की ये अपील
X

जौहर यूनिवर्सिटी मामले को लेकर आजम खान की हिमायत में उतरे दिग्विजय, CM योगी से की ये अपील

मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी शुरू से विवादों में रही है. इसके लिए किसान की जमीनें कब्जाने का आरोप लगते रहे हैं. 

 

जौहर यूनिवर्सिटी मामले को लेकर आजम खान की हिमायत में उतरे दिग्विजय, CM योगी से की ये अपील

रामपुर: मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के गेट को लेकर अदालत का फैसला आने के बाद इस पर सियासत तेज़ हो गई है. सोशल मीडिया में #SaveJauharUniversity ट्रेंड कराया जा रहा है. अदालत के फैसले के खिलाफ मुहिम चलाई जा रही है. अब इम मामले कांग्रेस के सीनियर नेता दिग्विजय सिंह ने एंट्री मारी है. दिग्विजय सिंह ने ट्विट करके योगी हुकूमत को सख्त तंकीद का निशाना बताया है. 

दिग्विजय सिंह ने आजम खान की हिमायत में भी कई ट्वीट किए हैं. दिग्विजय ने अपने ट्विटर हेंडल के जरिए लिखा है, 'बीजेपी सिर्फ तबाही पर यकीन करती है. तामीर पर नहीं. जौहर यूनिवर्सिटी तालीमी इदारा है. इसमें तोड़फोड़ की क्या ज़रूरत है? सिर्फ इसलिए कि उसे बनाने में आजम खान जी ने अपनी पूरी सियासी ज़िंदगी लगा दी?''

दिग्विजय सिंह ने एक और ट्वीट करते हुए लिखा, 'योगी जी, हाई ग्रेड की नई यूनिवर्सिटी खड़ा करिए. जौहर यूनिवर्सिटी को और कैसे हाई ग्रेड का तालीमी इदारा बना सकते हैं उस पर गौर करिए. उसे बरबाद करने की पहल न करें.'

गौरतलब है कि 2 अगस्त को रामपुर की डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने जौहर यूनिवर्सिटी के हवाले से एक अहम फैसला दिया था जिसमें अदालत ने एसडीएम पी पी तिवारी के मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी का गेट तोड़ने से मुअल्लिक हुक्मनामे को बरकरार रखा था. इसके साथ ही कोर्ट ने जौहर यूनिवर्सिटी और आजम खान पक्ष की अपील खारिज को खारिज कर दी थी.

ये भी पढ़ें: भारत की महिला हॉकी टीम सेमीफाइनल में अर्जेंटीना से 1-2 से हारीं, ब्रॉन्ज मेडल जीतने का मौका बरकरार

याद रहे कि साल 2019 में मकामी बीजेपी नेता आकाश सक्सेना ने शिकायत की थी कि मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी का गेट सरकारी जमीन पर है. इस मामले में एसडीएम कोर्ट ने जांच कराई थी और जौहर यूनिवर्सिटी के गेट को तोड़ने का आदेश जारी किया था. इसके बाद खिलाफ मोहम्मद आजम खान और मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी पक्ष ने एसडीएम कोर्ट के फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दी गई थी. हाई कोर्ट ने आजम खान की याचिका खारिज करते हुए उन्हें जिला जज की कोर्ट में अपील दायर करने को कहा था. सोमवार को जिला जज की कोर्ट ने भी उनकी अपील खारिज करते हुए एसडीएम सदर कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा.

ये भी पढ़ें: दरगाह में छोटे कपड़े पहनकर जोड़ा पहुंचा था जियारत करने, ग्रामीणों ने कर दिया हमला

शुरू से विवादों में रही है मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी
मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी शुरू से विवादों में रही है. इसके लिए किसान की जमीनें कब्जाने का आरोप लगते रहे हैं. साल 2019 में 26 किसानों ने मुकदमे भी दर्ज कराए थे. रामपुर जिला प्रशासन ने आजम खान के खिलाफ भू-माफिया का केस भी दर्ज किया है. इतना ही नहीं आजम खान पर चकरोड की जमीन पर कब्जा कर यूनिवर्सिटी की बाउंड्री खड़ी करने का आरोप था. रामपुर प्रशासन ने बीते साल बाउंड्री वॉल तोड़कर जमीन खाली करवा ली थी.

Zee Salaam Live TV:

Trending news