ज्योतिरादित्य सिंधिया पर बोले दिग्विजय सिंह, 1957 तक सिंधिया कुनबा हिंदू महासभा के साथ था

10 मार्च को ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस्तीफे के बाद सियासी हलचल मच गई गई जिसके बाद कांग्रेस पार्टी के सीनियर लीडर दिग्विजय सिंह ने भी कई ट्वीट किए

ज्योतिरादित्य सिंधिया पर बोले दिग्विजय सिंह, 1957 तक सिंधिया कुनबा हिंदू महासभा के साथ था

नई दिल्ली : कांग्रेस के सीनियर लीडर और मध्यप्रदेश के साबिक सीएम दिग्विजय सिंह ने बुधवार को सिंधिया को लेकर कई ट्वीट किए। उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधते हुए लिखा कि 'उनका (ज्योतिरादित्य सिंधिया) कुनबा 1957 तक हिंदू महासभा के साथ था। वज़ीरे आज़म पंडित जवाहर लाल नेहरू ने मरहूम राजमाता विजयाराजे सिंधिया को कांग्रेस में शामिल किया था। इसके बाद 1957 और 1962 में वे सांसद बनीं।और उन्होंने 1967 में कांग्रेस छोड़ दिया था।

एक और ट्वीट करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि महात्मा गांधी को मारने के लिए नाथूराम गोडसे ने जिस रिवाल्वर का इस्तेमाल किया था, उसे ग्वालियर के परचुरे ने ही दी थी।  दिग्विजय ने ट्वीट में जिन परचुरे का नाम लिया है उनका पूरा नाम डॉ. डीएस परचुरे था, वो ग्वालियर में एक हिंदू तंजीम के सद्र थे।

मध्य प्रदेश कांग्रेस के ऑफिशयली ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया, जिसमें ज्योतिरादि​त्य सिंधिया को गद्दार बताया गया है. बता दें कि सिंधिया ने 10 मार्च को कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं..जिसके बाद कांग्रेस पार्टी की ओर से ट्वीट कर कहा गया घर छोड़कर मत जाओ,कहीं ऐसा घर न मिलेगा।

बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के बगावत के बाद सियासी हलचल के साथ साथ पूरी कांग्रेस पार्टी ने उन्हें कोस रही है. कोई उन्हें गद्दार बता रहा है तो कोई सिंधिया कुंबे के पुरानी हिस्ट्री को टटोल रहा है. कोई ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके कुंबे को अंग्रेजों का वफादार बता रहा है तो कोई आरएसएस और बीजेपी के सामने झुकने का इल्ज़ाम लगा रहा है. मध्य प्रदेश कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को याद दिलाया है कि पार्टी में रहते हुए उन्हें क्या-क्या मिला.