प्रयागराज और जम्मू-कश्मीर के कई इलाकों में मनाई जा रही ईद

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में आज यानी गुरुवार (13 मई) को ईद मनाई जा रही है. इसके लिए बाकायादा एक लेटर जारी किया गया है

प्रयागराज और जम्मू-कश्मीर के कई इलाकों में मनाई जा रही ईद
फाइल फोटो

नई दिल्ली: आज रमज़ान का 30वां और खाखिरी रोज़ा है, 29वें रोजे के बाद बुधवार को कयास लगाए जा रहे थे कि ईद उल फितर का चांद नजर आएगा लेकिन लगभग सभी चांद देखने वाली कमेटियों ने ऐलान किया कि बुधवार शाम माहे शव्वाल (अरब महीनों में रमजान के बाद आने वाला महीना) का चांद नजर नहीं आया. इसलिए भारत में ईद का त्योहार 14 मई को मनाया जाएगा. 

यह भी पढ़ें: नहीं नजर आया ईद का चांद, 14 मई को मनाई जाएगी ईद उल फितर

हालांकि उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में आज यानी गुरुवार (13 मई) को ईद मनाई जा रही है. इसके लिए बाकायादा एक लेटर जारी किया गया है. 'सुन्नी मरकज़ी रूयते हिलाल कमेटी कदीम' के काजी मुफ्ती शफीक अहमद शरीफी और नायब काजी मुफ्ती मजाहिद हुसैन रिजवी के अलावा कई अन्य उलेमाओं ने इस बात की तस्दीक की है कि 12 मई यानी बुधवार की शाम माहे शव्वाल (ईद उल फितर) का चांद नजर आया है. 

लेटर में आगे लिखा गया है कि चांद देखने की सूरत की शहर इलाहाबाद और उसके मजाफात के लिए ऐलान किया जाता है कि 13 मई 2021 (गुरुवार) को ईद उल फितर मनाई जाएगी. साथ ही यह भी लिखा है कि शरई तस्दीक के बाद रोजा रखना हराम है. न सिर्फ इलाहाबाद बल्कि जम्मू-कश्मीर के कुछ इलाकों में भी ईद उल फितर मनाई जा रही है. कई मस्जिदों में ईद की नमाज की तस्वीरें सामने आईं हैं. 

हालांकि देश की लगभग सभी चांद देखने वाली कमेटियों ने देर शाम लेटर जारी कर कहा है कि चांद नजर नहीं आया है. इमारते शरिया ने अपने ऐलान में कहा कि चांद देखने का एहतमाम किया गया, दिल्ली में गुबार आलूद था, चांद नजर नहीं आया, इसके अलावा अन्य जगहों से राब्ता किया गया. जिसमें पता चला कि कई जगहों पर साफ नहीं बल्कि कई जगहों पर साफ है. इसलिए कमेटी ऐलान किया कि रमजान का 30वां रोजा रखा जाएगा और 14 मई को ईद उल फितर का त्योहार मनाया जाएगा. 

ZEE SALAAM LIVE TV