आजादी के 73 साल बाद LOC के गांव में सरकार की इस योजना से हुआ 'सौभाग्य' का उजाला, ऐसे पहुंची बिजली

नौशेरा के एक ऐसे ही पहाड़ी गांव में रहने वाले अब्दुल हमीद ने अपनी खुशी का इज़हार करते हुए कहा कि अब उनके गांव में भी तरक्की होगी.

आजादी के 73 साल बाद LOC के गांव में सरकार की इस योजना से हुआ 'सौभाग्य' का उजाला, ऐसे पहुंची बिजली
फाइल फोटो

राजौरी: मुल्क को आजाद हुए भले 70 साल से ज्यादा हो गए हैं लेकिन अभी भी कई ऐसे इलाके हैं जहां बिजली जैसी बुनियादी चीज़ भी दस्तेयाब नहीं है और वहां के लोग अंधेरे की गिरफ्त में हैं. हिंदुस्तान-पाकिस्तान एलओसी के नज़दीक राजौरी के नौशेरा सेक्टर में दूरदराज़ व पहाड़ी इलाकों में रहने वाले सैकड़ों लोग भी अब तक इसी गिरफ्त में थे लेकिन मरकज़ की नरेंद्र मोदी हुकूमत की सौभाग्य बिजली योजना के तहत उन्हें अब बिजली के कनेक्शन दिए जा रहे हैं. 

नौशेरा के एक ऐसे ही पहाड़ी गांव में रहने वाले अब्दुल हमीद ने अपनी खुशी का इज़हार करते हुए कहा कि अब उनके गांव में भी तरक्की होगी. उनके बच्चे अब दिन की रोशनी में ही नहीं बल्कि रात को भी बल्ब की रोशनी में पढ़ाई कर सकेंगे. उन्होंने सरकार का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि उनके बच्चों के बेहतर कल के लिए यह बहुत बड़ी मदद है.

बता दें कि नौशेरा सेक्टर में 300 से ज्यादा ऐसे घर थे जिन्होंने कभी भी बिजली नहीं देखी. हालात ये थे कि इन लोगों को मोबाईल चार्ज करने के लिए भी कस्बे तक जाना पड़ता था. केंद्र की सौभाग्य बिजली योजना ने आज उनके घरों में फैले अंधेरे को दूर कर दिया है. सभी घरों को बिजली दी गई है और लोग बहुत खुश हैं.

नौशेरा सब डिवीजन के असिस्टेंट इंजीनियर वरूण सढौत्रा की मानें तो एलओसी से सटे इलाकों में तेजी के साथ बिजली की सर्विस लाइनें पहुंचाई जा रही हैं. 

काबिले ज़िक्र है कि राजौरी जिले के पहाड़ी व दूरदराज के कई ऐसे इलाके थे, जहां आजादी के बाद से बिजली नहीं आई थी. पहले ये लोग बच्चों की पढ़ाई के लिए गांव को छोड़ने को मजबूर थे लेकिन अब वे अपने गांवों में रहकर बच्चों को पढ़ाना चाहते हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर 2017 को सौभाग्य बिजली योजना का आगाज़ किया और जम्मू-कश्मीर एडमिनिस्ट्रेशन ने ऐसे इलाकों को रोशन करने का बीड़ा उठाया जहां पहले कभी बिजली नहीं पहुंची थी.

Zee Salaam LIVE TV