मणिशंकर अय्यर का शाहीन बाग़ में मुतनाज़ा बयान, कहा -देखते हैं किसका हाथ मजबूत है, हमारा या कातिल का

उन्होने कहा कि जो भी कुर्बानियां देनी हों उसमें मैं भी शामिल होने को तय्यार हूँ. अब देखेंगे किस का हाथ मज़बूत है , हमारा या उस कातिल का ? 

मणिशंकर अय्यर का शाहीन बाग़ में मुतनाज़ा बयान, कहा -देखते हैं किसका हाथ मजबूत है, हमारा या कातिल का

नई दिल्ली : अपने मुतनाज़ा बयानों के चलते अक्सर सुर्खियों में रहने वाले कांग्रेस लीडर मणिशंकर अय्यर एक और मुतनाज़ा बयान देकर सवालों के घेरे में आ गए और इस बार उनके गले फांस बना वो बयान जो उन्होने शाहीन बाग में दिया. बता दें कि शाहीन बाग में गुजिश्ता करीब एक महीने से CAA के खिलाफ एहतजाजी मुज़ाहिरा जारी है जिसमें खवातीन की तादाद ज्यादा है.

इस मौके पर वो मुज़ाहिरीन को हिमायत देने पहुंचे थे और जैसे ही उन्होने ने खिताब के आगाज़ किया तो  पहले मोदी हुकूमत को कोसा और फिर शहिरयत तरमीमी कानून पर तरह तरह के सवाल उठाये. और फिर क्या था वो धीरे धीर इस एसी बयान बाज़ी करने लगे जो उनके लिये अब मसीबत बन कर खड़ी हो गयी है. 

उन्होने कहा कि जो भी कुर्बानियां देनी हों उसमें मैं भी शामिल होने को तय्यार हूँ. अब देखेंगे किस का हाथ मज़बूत है , हमारा या उस कातिल का ? अपने खिताब के बाद जैसे ही वो जाने लगे तो मीडिया ने उनसे सवाल पूछने शुरूर कर दिये लेकिन एक एैसी बात का वो क्या जवाब देते जो वो बग़ैर समझे ही बोल गये और सहिफियों के सवालात से भागते नज़र आये. 

अय्यर के लिये मुतनाज़ा बयान बाज़ी का ये तजरबा कोइ पहली बार नही हुआ, वो इस से पहली कई मुतनाज़ा बयान दे चुके हैं.