मिलिए उस मां से, जिसने आदमखोर तेंदुए के जबड़े से अपने जिगर के टुकड़े को छीन लिया
X

मिलिए उस मां से, जिसने आदमखोर तेंदुए के जबड़े से अपने जिगर के टुकड़े को छीन लिया

मध्यप्रदेश के सीधी जिले (Seedhi district of Madhya Pradesh ) के एक गांव में इतवार की रात एक आदिवासी औरत (Schedule Tribe women ) अपने बच्चों के साथ झोंपड़ी के बाहर आग ताप रही थी, तभी तेंदुए ने हमला (Attack of Leopard) कर उसके आठ साल के बच्चे को दबोच लिया. हादसे के बाद महिला ने हार नहीं मानी और जंगल से तेंदुए के मुहं से अपने बच्चे को बचा लिया.  

 

मिलिए उस मां से, जिसने आदमखोर तेंदुए के जबड़े से अपने जिगर के टुकड़े को छीन लिया

सीधीः मध्यप्रदेश के सीधी जिले (Seedhi district of Madhya Pradesh ) के एक गांव की एक आदिवासी औरत (Schedule Tribe women ) ने एक तेंदुए से लड़ते हुए उसके पंजे से अपने आठ साल के बच्चे को छुड़ा (Save son from the jaw of Leopard) लिया. वन के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी. गांव में घर के बाहर से अपने बेटे को तेंदुए द्वारा अचानक ले जाने के बावजूद महिला ने अपना आपा नहीं खोया और अपने दूसरे बच्चों को झोंपड़ी में बंद कर वह तेंदुए के पीछे जंगल की तरफ दौड़ पड़ी. यह हादसा इतवार की रात को सीधी जिले के संजय बाघ अभयारण्य के बफर जोन के बड़ी झरिया गांव में हुई.

बच्चे को बचाने के लिए जंगल में घुस गई महिला 
निदेशक वाई पी सिंह ने कहा कि बैगा जनजाति की महिला किरण अपने तीन बच्चों के साथ अपनी झोंपड़ी के बाहर आग तापने के लिए बैठी थी, तभी अचानक एक तेंदुआ उसके बगल में बैठे आठ साल के बेटे राहुल को जबड़े में पकड़ कर जंगल की तरफ लेकर भाग गया. अचानक हुई इस घटना से महिला सदमें में तो आ गई लेकिन उसने हिम्मत और समझदारी से काम लेते हुए करीब एक किलोमीटर तक जंगल में तेंदुए का पीछा किया. जंगल में तेंदुआ झाड़ियों में छिपकर बच्चे को अपने पंजों में जकड़े हुए था. किरण ने भी हार नहीं मानी और वह डंडे से तेंदुए को डराने की कोशिश करते हुए शोर मचाती रही.

महिला से डरकर बच्चे को छोड़कर भागा तेंदुआ 
अधिकारी ने कहा कि तेंदुआ शायद महिला के साहस से डर गया और बच्चे को वहीं छोड़ दिया. किरण ने तुरंत बेटे को गोद में लिया लेकिन तेंदुए ने उस पर हमला कर दिया. हालांकि बेटे को बचाते हुए किरण ने बड़े साहस के साथ तेंदुए पर काबू पा लिया. इस दौरान किरण के मदद की गुहार सुनकर अन्य ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए और तेंदुआ जंगल में भाग गया.

तेंदुए से लड़ाई में मां-बेटा दोनों घायल 
तेंदुए के हमले में लड़के की पीठ, गाल और आंखों पर चोटें आई हैं और हमले में उसकी मां भी घायल हो गई है. बफर जोन के रेंजर असीम भूरिया ने मां और बेटे को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया और तत्काल एक हजार रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की. अधिकारी ने कहा कि दोनों घायलों का उपचार वन विभाग द्वारा कराया जाएगा. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहाा ने मंगलवार को एक ट्वीट कर महिला के इस साहसिक कार्य की तारीफ की है. 

Zee Salaam Live Tv

Trending news