इमरजेंसी के बाहर नीचे पड़ा तड़तपा रहा मरीज़ और तमाशा देखते रहे अस्पताल मुलाज़िम

मुतास्सिर मेवाराम ने जिला अस्पताल में मौजूद पैरामेडिकल स्टाफ को अपनी परेशानी बताई लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई.

इमरजेंसी के बाहर नीचे पड़ा तड़तपा रहा मरीज़ और तमाशा देखते रहे अस्पताल मुलाज़िम

नोएडा: गौतम बुद्ध नगर जिले में मेहकमा सेहत की लापरवाही ठीक होने का नाम नहीं ले रही है. मामला गुज़िश्ता जुमेरात का है, जब जिला अस्पताल में इमरजेंसी वॉर्ड के बाहर एक मरीज़ करीब आधे घंटे तक ज़मीन पर पड़ा तड़पता रहा. जिला अस्पताल के स्टाफ मरीज़ को देखते रहे लेकिन किसी ने उसकी सुध नहीं ली न ही उठाने की ज़हमत की.

मरीज़ की हालत इतनी खराब थी कि उससे उठा तक नहीं जा रहा था. जब वहां मौजूद लोगों ने जिला अस्पताल इंतेज़ामिया के सामने हल्ला मचाना शुरू किया तो अंदर से दौड़ते हुए कुछ मुलाज़िम आए और मरीज़ को इमरजेंसी में ले गए.

जानकारी के मुताबिक छालेरा के रहने वाले 33 साल के मेवाराम को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी. जुमेरात दोपहर करीब 12 बजे वह इलाज कराने के लिए किसी तरह जिला अस्पताल पहुंचे. मुतास्सिर मेवाराम ने जिला अस्पताल में मौजूद पैरामेडिकल स्टाफ को अपनी परेशानी बताई लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई.

मेवाराम की परेशानी बढ़ती जा रही थी और सांस फूल रही थी. मेवाराम इमरजेंसी गेट के बाहर लेट गए और तड़पने लगे. हॉस्पिटल स्टाफ मेवाराम को तड़पते हुए देखता रहा लेकिन उनकी मदद करने की कोशिश नहीं की. गौतम बुद्ध नगर में अस्पतालों की लापरवाही का यह कोई पहला मामला नहीं है, इस तरीके के दर्जनों मामले पिछले कुछ दिनों में सामने आ चुके हैं.

Zee Salaam Live TV