प्रधानमंत्री पद के लिए पहली पसंद थे पटेल तो कैसे देश के पहले PM बने नेहरू? पढ़ें पूरी खबर

आज मुल्क के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्मदिन है. उनके जन्मदिन को बाल दिवस (Children Day) के तौर पर मनाया जाता है. जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर 1889 को ब्रिटिश भारत में इलाहाबाद में हुआ था.

प्रधानमंत्री पद के लिए पहली पसंद थे पटेल तो कैसे देश के पहले PM बने नेहरू? पढ़ें पूरी खबर
फाइल फोटो

नई दिल्ली: आज मुल्क के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्मदिन है. उनके जन्मदिन को बाल दिवस (Children Day) के तौर पर मनाया जाता है. जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर 1889 को ब्रिटिश भारत में इलाहाबाद में हुआ था. उनके पिता मोतीलाल नेहरू एक धनी बैरिस्टर जो कश्मीरी पण्डित थे.

इस तरह बने देश के पहले प्रधानमंत्री
साल 1946 में जैसे-जैसे हिंदुस्तान को आजादी मिलने की उम्मीदें बढ़ रहीं थी वैसे ही कांग्रेस के ज़रिए सरकार के कयाम का अमल भी शुरू हो चुका था. सभी की निगाहें कांग्रेस के अध्यक्ष के पद पर टिकी हुई थीं क्योंकि ये लगभग तय हो चुका था कि जो कांग्रेस का अध्यक्ष बनेगा वही हिंदुस्तान का अगला प्रधानमंत्री भी चुना जाएगा.

दूसरी आलमी जंग, भारत छोड़ो आंदोलन और ज्यादातर कांग्रेसी लीडरों के जेल में बंद होने जैसे कई वजहों से मौलाना अबुल कलाम आजाद अप्रैल 1946 तक अध्यक्ष बने रहे और जब कांग्रेस ने अध्यक्ष पद के लिए चुनाव का ऐलान किया तो मौलाना आजाद ने दोबारा चुनाव लड़ने की ख्वाहिश जाहिर की थी लेकिन गांधी जी के कहने पर उन्हें यह ख्याल छोड़ना पड़ा. मौलाना आजाद को मना करने के साथ-साथ गांधी जी ने पंडित नेहरू की भी खुलकर हिमायत कर दी थी. 

गांधी जी की खुली हिमायत के बावजूद 15 में से 12 प्रदेश कांग्रेस कमेटियों ने सरदार वल्लभभाई पटेल को पार्टी अध्यक्ष चुना था. इसके बाद गांधी ने सरदार पटेल से मुलाकात कर कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटने की गुज़ारिश की. सरदार पटेल ने इस गुजारिश को कुबूल की और कांग्रेस अध्यक्ष के ओहदे की कुर्बानी दी. कहा यह भी जाता रहा है कि जवाहरलाल नेहरू इत्तेफाक राए से मुल्क के पहले पीएम चुने गए थे और वे पूरे देश के चहेते थे.

Zee Salaam LIVE TV