कोरोना ने बदली रिवायत,माहे रमजान में घरों में ही पांच वक्त की नमाज़ अदा कर रहे लोग

जम्मू कश्मीर के जाने माने वालीबॉल कोच मोहम्मद तारिक़ खान और इंटरनेशनल वालीबॉल खिलाड़ी सकलैन तारिक के घर पर पहुंची ज़ी मीडिया की टीम जाना हाल  

कोरोना ने बदली रिवायत,माहे रमजान में घरों में ही पांच वक्त की नमाज़ अदा कर रहे लोग

पुंछ/रमेश बाली: कोरोना वायरस के इस संजीदा वक्त में कोई मज़हब नहीं रह गया है रह गई है तो सिर्फ इंसानियत. इस हवन कुंड के अंदर सभी फैस्टिवल कोरोना की भेंट चढ चुके हैं. रमजान का पाक महीना शुरू हो चुका है. कल वज़ीरे आज़म मोदी ने भी मन की बात में रमजान की मुबारकबाद देते हुए कहा था कि घरों में जितनी जायद इबादत हो सके घरों में रहकर करें और दुआ करें कि ईद के आने से पहले ही ये खराब वक्त खत्म हो जाए.

कोरोना के इस संजीदा वक्त के दौरान माह -ए-रमजान के इस पाक महीने की शक्ल ही बदल गई है. रौनक और लोगों से भरे फेस्टिवल में इस वक्त लोग अपने घरों में ही पांच वक्त की नमाज अदा कर रहे हैं. घरों में भी रोजेदार सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रख रहे हैं. लॉकडाउन के चलते लोग मस्जिदों में नहीं जा सकते रोज़ेदार अपने घरों के अन्दर ही नमाज़ अदा कर के रोज़ा खोल रहे है 

ज़ी मीडिया की टीम जम्मू कश्मीर के जाने माने वालीबॉल कोच मोहम्मद तारिक़ खान और इंटरनेशनल वालीबॉल खिलाड़ी सकलैन तारिक के घर पर आई और उनके घर पर चल रही रोजा इफ्तार की तैयारियों का जायजा लिया. ज़ी मीडिया से बात करते हुए तारिक़ खान ने कहा कि हम सब लोग पहले मस्जिद में जा कर रोज़ा इफ्तारी करते थे पर इस बार नहीं एक तो हुकूमत की तरफ से लॉक डाउन है वही दूसरी और उलमा हजरत ने भी कहा है की इस बार घर में रह कर इबादत और रोज़ा इफ्तारी की जाए आज हम सिर्फ घर के लोग ही है यहाँ तक के हम अपने भाई के परिवार को भी नहीं बुलाया है.

वही इंटरनेशनल वालीबॉल खिलाड़ी सकलैन तारिक का कहना है की हमे सरकार के साथ मिल कर चलना चाहिए और घर में भी एक दूरी बना कर रखनी चाहिए और आज कई सालों के बाद अपने घर पर माहे रमजान के इस पाक महीने में रोज़े रख रहा हूँ नहीं तो में अपने घर से बाहिर ही रहता हूँ

वहीं घर की ख़्वातीन का कहना है की इस बार लॉकडाउन के चलते दुकाने बंद है जो कुछ खुलती भी है वहाँ पर सामान नहीं मिल रहा है इस लिए जो सामान घर में है उसी से रोज़ा इफ्तारी की तैयारियां करते हैं.

Watch Zee Salaam Live TV