बुर्ज खलीफा की एक ऐसी तस्वीर, जिसे खींचने के लिए फोटोग्राफर ने किया 7 साल तक इंतजार

दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा (burj Khalifa) पर आसमानी बिजली की एक परफेक्ट फोटो खींचने के लिए पूरे सात साल तक इंतजार किया

बुर्ज खलीफा की एक ऐसी तस्वीर, जिसे खींचने के लिए फोटोग्राफर ने किया 7 साल तक इंतजार
जोहैब अंजुम (Johaib Anjum) ने 7 साल तक इंतजार के बाद इस तस्‍वीर को अपने कैमरे में कैद किया...

क्या आपने किसी काम को मुकम्मल ढंग से पूरा करने के लिए सालों तक इंतजार किया है? भागदौड़ भरी जिंदगी में हमें सब कुछ इतनी जल्दी चाहिए कि हम उसके लिए पल भर का भी इंतजार करना मुनासिब नहीं समझते. वर्षों के इंतजार की बात तो सोच भी नहीं सकते. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे फोटोग्राफर से मिलवाने जा रहे हैं जिसने एक 'परफेक्ट क्लिक' के लिए एक, दो नहीं बल्कि पूरे सात साल तक इंतजार किया.  

जी हां, पाकिस्तानी निसाद के जोहैब अंजुम (Johaib Anjum) ने दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा (burj Khalifa) पर आसमानी बिजली की एक परफेक्ट फोटो खींचने के लिए पूरे सात साल तक इंतजार किया. आप कह सकते हैं कि जोहैब अंजुम जदीद वक्त के बेंजामिन फ्रैंकलिन हैं. 

आपको शायद पता हो कि अमेरिका के फाउंडिंग फादर्स में से एक ने बॉटल में आसमानी बिजली की तस्वीर खींची थी. ठीक उसी तरह दुबई के इस फोटोग्राफर ने ऐसी तस्वीर अपने कैमरे में कैद की है जिसे देखकर ऐसा लगता है मानो आसमानी बिजली बुर्ज खलीफा के ठीक ऊपर गिर रही है. पाकिस्तान के रहने वाले जोहैब अंजुम दुबई के एक रियल एस्टेट कंपनी में फोटोग्राफर के तौर पर काम करते हैं. उन्होंने इस परफेक्ट शॉट के लिए सात साल तक इंतजार किया. सालों से चला आ रहा ये इंतजार गुज़िश्ता जुमा को खत्म हुआ. इससे पहले उन्होंने बारिश में पूरी रात गुजारी. 

अंजुम ने एक वेबसाइट को बताया कि वेदर ऐप्स के जरिए मुझे पता चला कि जुमा की रात दुबई के कुछ इलाकों में शदीद तूफान आने वाला है. इसलिए पहले ही मैंने तूफान की सिम्त का अंदाजा लगा लिया था. उन्होंने कहा कि तूफान बुर्ज खलीफा के पीछे के कोस्टल एरिया से आने वाला था. इस परफेक्ट मोमेंट को कैमरे में कैद करने के बाद सबसे पहले मैंने उपर वाले का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने कहा कि इससे पहले भी मैंने कई बार यह शॉट कैमरे में कैद करने की कोशिश की लेकिन कभी बिजली बुर्ज खलीफा बिल्डिंग के साइड में पड़ती तो कभी आगे पीछे. यह कभी बिल्डिंग के ऊपर नहीं पड़ी.