बुजुर्ग की पिटाई के मामले में ट्विटर इंडिया के MD को पुलिस ने भेजा नोटिस, लिखी यह बात

नोटिस के मुताबिक मनीष माहेश्वरी को सात दिन के अंदर लोनी बॉर्डर थाने में अपना बयान दर्ज कराना होगा. 

बुजुर्ग की पिटाई के मामले में ट्विटर इंडिया के MD को पुलिस ने भेजा नोटिस, लिखी यह बात
फाइल फोटो

नई दिल्ली: गाजियाबाद में सामने आई मुस्लिम बुजुर्ग के साथ मारपीट मामला ठंडा होने का नाम नहीं ले रहा है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, गाजियाबाद के लोनी में बुजुर्ग की दाढ़ी काटने की घटना में भड़काऊ वीडियो ट्रेंड होने को लेकर पुलिस ने ट्विटर इंडिया के एमडी मनीष माहेश्वरी को नोटिस भेजा है.

नोटिस के मुताबिक मनीष माहेश्वरी को सात दिन के अंदर लोनी बॉर्डर थाने में अपना बयान दर्ज कराना होगा. खत में कहा गया है कि ट्विटर कम्यूनिकेशन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और ट्विटर INC के खिलाफ थाना लोनी बोर्डर जिला गाजियाबाद में धारा 153, 153 ए, 295 ए, 505, 120 बी, 34 के तहत एफआईआर दर्ज की गई.

यह भी देखिए: दीपशिखा ने शेयर की पीठ पर बने टैटू की तस्वीरें, बताई सच्चे प्यार की परिभाषा, देखिए PHOTOS

मनीष माहेश्वरी को भेजे गए खत में आगे लिखा गया है,"ट्विटर INC के ज़रिए लोगों ने अपने ट्विटर हैंडल का इस्तेमाल कर समाज के दरमियान विद्वेष फैलाने वाले पैगाम का किसी तरह कोई संज्ञान नहीं लिया गया. साथ ही देश/प्रदेश के अलग-अलग ग्रुपों के बीच सौहार्द को प्रभावित करने वाले काम को बढ़ाया दिया गया. 

क्या है मामला?
गाजियाबाद में 5 जून को मुस्लिम बुजुर्ग अब्दुल समद से मारपीट और दाढ़ी काटने का मामला सामने आया है. इस वीडियो को लेकर पहले दावा किया जा रहा था कि बुजुर्ग के साथ मुस्लिम होने के नाते मारपीट की गई और दाढ़ी गाटी गई. हालांकि हकीकत इसके उलट थी. जांच के बाद बताया कि ये दो परिवारों की आपसी रंजिश का मामला है और बुजुर्ग तावीज बनाने का काम करता है.

यह भी देखिए: रोटी बनाते हुए नाबालिग लड़की का VIDEO वायरल, सरकारी नौकरी वाले लड़के ने भेजा शादी का प्रस्ताव

ट्विटर समेत 9 लोगों के खिलाफ दर्ज हुआ केस
इस मामले पुलिस ने ट्विटर समेत 9 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की है. आरोपियों में कुछ पत्रकार भी शामिल हैं. इन सभी पर मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई से संबंधित वीडियो को सांप्रदायिक रंग देकर वायरल कराने का आरोप है. इसके अलावा पुलिस ने आगे बताया कि ट्विटर पर आरोप है कि पुलिस के ज़रिए मामले की सच्चाई सामने आने के बावजूद इस वीडियो को नहीं हटाया गया. इन सभी पर संबंधित धाराओं में मामला दर्ज किया गया है.

ZEE SALAAM LIVE TV