अमेठी में लगे "लापता सांसद से सवाल" वाले पोस्टर, स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर दिया यह जवाब

ये पोस्टर शहर में जामो के अतरौली, शाहगढ़ ब्लॉक के बहोरखा प्राथमिक पाठशाला और आसपास के खम्बों पर चस्पा किए गए हैं. हालांकि, पोस्टर्स किसके ज़रिए चिपाकए गए हैं,

अमेठी में लगे "लापता सांसद से सवाल" वाले पोस्टर, स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर दिया यह जवाब

अमेठी: कोरोना बोहरान के बीच अमेठी में एक बार फिर से पोस्टर वॉर शुरू हो गया है. एक वक्त था जब राहुल गांधी के लापता होने के पोस्टर लगते थे, तो वहीं अब BJP एमपी और मरकज़ी वज़ीर स्मृति ईरानी के खिलाफ 'लापता सांसद से सवाल' वाले पोस्टर लगे हैं. पूछा गया है कि क्या अब आप (स्मृति ईरानी) अमेठी में सिर्फ कंधा ही देने आयेंगी? वहीं स्मृति ईरानी ने भी अपने बचाव में पलटवार करते हुए करारा जवाब दिया है.

अमेटी में चिपकाए गए पोस्टर्स में लिखा है ''अमेठी से एमपी बनने के बाद (साल भर में 2 दिन) महज़ कुछ घंटों में अपनी हाज़िरी दर्ज कराने वाली एमपी स्मृति इरानी जी आज कोरोना महामारी के दर्द से अमेठी के अवाम खौफज़दा हैं. हम यह नहीं कहते कि आप गायब हैं. हमने आपको ट्विटर के ज़रिए से अंताक्षरी खेलते हुए देखा है. हमने आपके ज़रिए से एकात व्यक्ति को लंच देते हुए देखा है. लेकिन अमेठी के एमपी होने के नाते से आज उल्टे वक्त में अमेठी की मासूम जनता अपनी ज़रूरतों और परेशानियों के लिए आपको ढूंढ रही है, गुज़िश्ता कई महीनों की परेशानियों के बीच में यूं ही अमेठी की जनता को बेसहारा छोड़ देना यह ज़ाहिर करता है  कि शायद अमेठी आप के लिए महज़ टूर हब है.''

ये पोस्टर शहर में जामो के अतरौली, शाहगढ़ ब्लॉक के बहोरखा प्राथमिक पाठशाला और आसपास के खम्बों पर चस्पा किए गए हैं. हालांकि, पोस्टर्स किसके ज़रिए चिपाकए गए हैं, इसकी जानकारी नहीं दी गई है लेकिन, पोस्टर की तस्वीर शेयर करते हुए कांग्रेस MLC दीपक सिंह ने ट्वीट कर स्मृति ईरानी पर निशाना साधा है.

दीपक सिंह ने लिखा, ''स्मृति ईरानी MP बनने के बाद 22 जून 2019 को पहली बार, 6 जुलाई को 4 घंटे के लिए, 28 अगस्त को 2 घंटे और बीच में एक बार 4 घंटे के लिए ही अमेठी आईं. बहुत लंबा वक्त हो गया, आपके कुछ कारकुन और हम सब अमेठीवासी भी आपको बहुत याद कर रहे हैं. घंटों में नहीं कुछ दिन तो बिताइए अमेठी में.''

उधर, स्मृति ईरानी ने मोर्चा संभालते हुए ट्वीट किया, ''कलेक्टर अमेठी, सुल्तानपुर, रायबरेली से मुस्तकिल राब्ता एवं समन्वय के ज़रिए से प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का लाभ अमेठी के जन जन तक पहुंचे ये प्रयास किया मैंने. बताएं सोनिया जी ने खुद कितनी बार कोशिश की अपने इलाके के लिए ?''

Zee Salaam LIVE TV