इस साल हमेशा की तरह धूम-धाम से नहीं मनाया जाएगा यौमे आज़ादी: सद्रे जम्हूरिया कोविंद

उन्होंने आगे कहा कि इस साल यौमे आज़ादी का जश्न हमेशा की तरह धूम-धाम नहीं होगा. इसकी वजह वाज़ह है. पूरी दुनिया एक ऐसे खतरनाक वायरस से जूझ रही है जिसने अवामी ज़िंदगी को भारी नुकसान पहुंचाया है

इस साल हमेशा की तरह धूम-धाम से नहीं मनाया जाएगा यौमे आज़ादी: सद्रे जम्हूरिया कोविंद
फाइल फोटो.

नई दिल्‍ली: 74वें यौमे आज़ादी से पहली शाम पर सद्रे जम्हूरिया रामनाथ कोविंद ने खिताब में मुल्क और बैरूने मुल्क में रह रहे हिंदुस्तानियों को यौमे आज़ादी की मुबारकबाद पेश की और कहा कि इस मौके पर हम मुजाहिदीने आज़ादी की कुर्बानी शुक्रिया के साथ याद करते हैं. उनकी कुर्बानी की ताकत पर ही हम सब आज आज़ाद मुल्क के निवासी हैं. 

उन्होंने आगे कहा कि इस साल यौमे आज़ादी का जश्न हमेशा की तरह धूम-धाम नहीं होगा. इसकी वजह वाज़ह है. पूरी दुनिया एक ऐसे खतरनाक वायरस से जूझ रही है जिसने अवामी ज़िंदगी को भारी नुकसान पहुंचाया है और हर तरह की सरगर्मियों में खलल पैदा किया है. 

इस मौके पर उन्होंने मुल्क उन सभी डॉक्टरों, नर्सों व दूसरे मेडकिल से मुतअल्ल अहलकारों का कर्ज़दार है जो कोरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में फ्रंट लाइन के वॉरियर्स रहे हैं ये हमारे मुल्क के मिसाली खिदमतगार हैं. इन कोरोना-वॉरियर्स की जितनी भी तारीफ की जाए, वह कम है.

आज जब आलमी तबके के सामने आई सबसे बड़ी चुनौती से मुत्तहिद होकर जिद्दोजहद करने की ज़रूरत है तब हमारे पड़ोसी ने अपनी तौसीपसंद सरगर्मियों को चालाकी से अंजाम देने का दुस्साहस किया. पूरा मुल्क गलवान वादी के शहीदों को सलाम करता है.

Zee Salaam LIVE TV