कोविड की तीसरी लहर से लड़ने के लिए तैयार होंगे एक लाख कोरोना योध्दा, प्रधानमंत्री ने की मुहिम की शुरुआत

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना की गुजिश्ता लहर में हमने देखा कि किस तरह पूरा मुल्क, समाज और लोग आपस में मिल जुलकर इससे लड़ने का काम किया. कोरोना वबा ने साइंस, हुकूमत, समाज, संस्था और लोगों के रूप में हमे अपनी कूवत और सलाहियतों का विस्तार करने के लिए भी खबरदार किया है.

कोविड की तीसरी लहर से लड़ने के लिए तैयार होंगे एक लाख कोरोना योध्दा, प्रधानमंत्री ने की मुहिम की शुरुआत
अलामती तस्वीर

नई दिल्लीः वजीर-ए-आजम नरेंद्र मोदी ने जुमे को मुल्क की 26 रियासतों और 111 ट्रेनिंग सेंटरों से कोविड-19 हेल्थकेयर फ्रंटलाइन वर्कर्स की ट्रेनिंग प्रोग्राम का इफतेताह किया. इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें इस महामारी को लेकर भविष्य में आने वाली हर तरह की चुनातियों से निपटने के लिए अभी से तैयारी करनी होगी. उन्होंने कहा कि इस तरबीयती प्रोग्राम के तहत मुल्क में 1 लाख कोरोना वॉरियर्स तैयार किए जाएंगे. प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजिश्ता 7 सालों में नए एम्स, मेडिकल कॉलेज, नर्सिंग कॉलेज और अस्पताल जो कायम किए गए थे वहां भी काम शुरू हो गया है और वह भी कोविड महामारी से लड़ने में काम करेंगे. बीजेपी की ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से भी इस जानकरी को पब्लिश किया गया है. 

महामारी से हमें मिलकर लड़ना होगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना की गुजिश्ता लहर में हमने देखा कि किस तरह पूरा मुल्क, समाज और लोग आपस में मिल जुलकर इससे लड़ने का काम किया. कोरोना वबा ने साइंस, हुकूमत, समाज, संस्था और लोगों के रूप में हमे अपनी कूवत और सलाहियतों का विस्तार करने के लिए भी खबरदार किया है. हमने कोरोना से लड़ने वाले मुल्के के वर्कफोर्स में 1 लाख और वर्कफोर्स जोड़ने का काम किया है. दो से तीन माह के इस ट्रेनिंग प्रोग्राम के जरिए हम नौजवानों को कोरोना से लड़ने के लिए तैयार करेंगे. इससे हमारे पहले से मौजूद वर्कफोर्स को और हिम्मत और ताकत मिलेगी. हम कोविड-19 को शिकस्त देने में कामयाब होंगे. 

 

नौजवानों को मिलेंगे रोजगार के मौके
प्रधानमंत्री ने कहा कि 1 लाख नए कोविड वॉरियर्स की ट्रेनिंग से नौजवानों को रोजगार के नए मौके भी मिलेंगे. ट्रेनिंग के तहत उम्मीदवारों को स्किल इंडिया का सर्टिफिकेट, खाना और आवास की मुफ्त सहूलत मिलेगी. काम के साथ उन्हें ट्रेनिंग दी जाएगी और इस दौरान उन्हें स्टाइपेंड के तौर पर एक तयशुदा रकम भी दी जाएगी. प्रशिक्षण लेने वाले कोविड वॉरियर्स का दो लाख रुपये का दुर्घटना बीमा भी किया जाएगा. 

हेल्थकेयर वॉरियर्स को मोदी ने सराहा
प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड महामारी के दौरान हमारे हेल्थ वर्कर्स, आशा, एएनएम और आंगनबाड़ी के कार्यकर्ताओं ने बड़ी भूमिका निभाई हैत्र संक्रमण को फैलने से रोकने और इसके प्रति लोगों में बेदारी लाने का उन्होंने काम किया है. मोदी ने कहा कि 1 लाख कोविड वॉरियर्स प्रशिक्षण हासिल करने के बाद प्राथमिक, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रो और अस्पतालों में अपनी सेवाएं देंगे.  

Zee Salaam Live Tv