PV Sindhu ने भारत को दिलाया एक और मेडल, ऐसा करने वाली बनी पहली भारतीय महिला

सिंधु (PV Sindhu) ने मैच में चीन की हे बिंगजियाओ को 21-13, 21-15 से शिकस्त देकर मेडल अपने नाम किया है. 

PV Sindhu ने भारत को दिलाया एक और मेडल, ऐसा करने वाली बनी पहली भारतीय महिला
P.V. Sindhu

नई दिल्ली: रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता और विश्व चैंपियन छठी वरीय पीवी सिंधू ने इतवार को चीन की आठवीं वरीयता हासिल खिलाडी ही बिंग जियाओ को सीधे गेम में हराकर तोक्यो खेलों की महिला एकल मुकाबले का कांस्य पदक जीता और ओलंपिक में दो पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी. इससे पहले दिग्गज पहलवान सुशील कुमार बीजिंग 2008 खेलों में कांस्य और लंदन 2012 खेलों में रजत पदक जीतकर ओलंपिक में दो व्यक्तिगत पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने थे. दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी सिंधू ने मुसाहिनो फॉरेस्ट स्पोर्ट्स प्लाजा में 53 मिनट चले कांस्य पदक के मुकाबले में चीन की दुनिया की नौवें नंबर की बायें हाथ की खिलाड़ी बिंग जियाओ को 21-13, 21-15 से शिकस्त दी. बिंग जियाओ के खिलाफ 16 मैचों में यह सिंधू की सातवीं जीत है जबकि उन्हें नौ मुकाबले में शिकस्त झेलनी पड़ी. इस मुकाबले से पहले सिंधू ने बिंग जियाओ के खिलाफ पिछले पांच में से चार मुकाबले गंवाए थे. सिंधू को सेमीफाइनल में चीनी ताइपे की ताइ जू यिंग के खिलाफ 18-21, 12-21 से शिकस्त झेलनी पड़ी थी.

 मैं सातवें आसमान पर हूं: सिंधू 

सिंधू ने कांस्य पदक जीतने के बाद कहा, ‘‘मैं काफी खुश हूं क्योंकि मैंने इतने वर्षों तक कड़ी मेहनत की है. मेरे अंदर भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा था. मुझे खुश होना चाहिए कि मैंने कांस्य पदक जीता या दुखी होना चाहिए कि मैंने फाइनल में खेलने का मौका गंवा दिया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन अंत में मुझे इस मुकाबले के लिए अपनी भावनाओं से पार पाना था और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना था. मैं बेहद खुश हूं और मुझे लगता है कि मैंने काफी अच्छा किया. देश के लिए पदक जीतना गौरवपूर्ण लम्हा है.’’ सिंधू ने कहा, ‘‘मैं सातवें आसमान पर हूं. मैं इस लम्हें का पूरा लुत्फ उठाऊंगी. मेरे परिवार ने मेरे लिए कड़ी मेहनत की है और काफी प्रयास किए जिसके लिए मैं उनकी आभारी हूं.’’

तोक्यो खेलों का यह भारत का दूसरा पदक 

तोक्यो खेलों का यह भारत का दूसरा पदक है. इससे पहले भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने रजत पदक जीता था. मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन भी सेमीफाइनल में जगह बनाकर भारत के लिए पदक पक्का कर चुकी हैं. भारत ने इसके साथ ही ओलंपिक में पदक की हैट्रिक पूरी की. साइना नेहवाल लंदन 2012 खेलों में कांस्य पदक के साथ ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बनी थी जबकि इसके चार साल बाद सिंधू ने रियो में रजत पदक जीता.

सिंधु ओलंपिक्स खेलों में दो मेडल जीतने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी बन गई हैं. वहीं अगर पुरुषों की बात करें तो पुरुषों में पहलवान सुशील कुमार (कांस्य- बीजिंग 2008, रजत- लंदन 2012) ने यह कारनामा किया था.  

इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट किया और लिखा,"पीवी सिंधु ओलंपिक खेलों में दो पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं. उन्होंने निरंतरता, समर्पण और उत्कृष्टता का एक नया पैमाना स्थापित किया है. भारत को गौरवान्वित करने के लिए उन्हें मेरी हार्दिक बधाई."

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुबारकबाद दी. पीएम मोदी ने पीवी सिंधु के साथ एक तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि पीवी सिंधु के ज़रिए शानदार प्रदर्शन से हम सभी उत्साहित हैं. कांस्य मेंडल जीतने पर उन्हें मुबारकबाद. टोक्यो ओलंपिक्स में वह भारत का फख्र हैं और हमारे सबसे उत्कृष्ट ओलंपियनों में से एक हैं.

इसके अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा कि भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु का शानदार खेल. ओलंपिक में कांस्य मेडल के लिए उन्हें बधाई. उन्होंने उल्लेखनीय सफलता हासिल कर कई मौकों पर देश को गौरवान्वित किया है. आज उसने इसे फिर से किया है.

ZEE SALAAM LIVE TV