Porn Film Case: जमानत मिलने के बाद जेल से इतने दिनों बाद रिहा हुए राज कुंद्रा

Pornography Film Case​: मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट एसबी भाजीपाले ने 50,000 रुपये का मुचलका भरने पर सोमवार को कुंद्रा की जमानत अर्जी मंजूर कर ली थी.

Porn Film Case: जमानत मिलने के बाद जेल से इतने दिनों बाद रिहा हुए राज कुंद्रा
फाइल फोटो

मुंबई: कारोबारी राज कुंद्रा मंगलवार को मुंबई की जेल से बाहर आ गए. अश्लील फिल्म मामले में दो महीने पहले गिरफ्तार किए गए अहम आरोपी कुंद्रा को एक दिन पहले ही मजिस्ट्रेट की अदालत ने जमानत दी थी. जेल के एक अधिकारी ने बताया कि कुंद्रा को सुबह साढ़े 11 बजे के बाद आर्थर रोड जेल से रिहा किया गया.

मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट एसबी भाजीपाले ने 50,000 रुपये का मुचलका भरने पर सोमवार को कुंद्रा की जमानत अर्जी मंजूर कर ली थी. कुंद्रा के सहयोगी और सह-आरोपी रयान थोर्पे को भी अदालत ने मुबैय्यना तौर से अश्लील फिल्में बनाने और कुछ ऐप के माध्यम से उन्हें फैलाने के मामले में जमानत दे दी थी. कुंद्रा के साथ थोर्पे को भी 19 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था.

ये भी पढ़ें: MMS लीक होने के बाद छलका भोजपुरी एक्ट्रेस त्रिशाकर मधु का दर्द, कह दी बड़ी बात

गौरतलब है कि कुंद्रा (46) को अदालती हिरासत में मध्य मुंबई की आर्थर रोड जेल में रखा गया था. बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति कुंद्रा को मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने ताज़ीराते हिंद, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी और महिलाओं का अश्लील चित्रण (रोकथाम) अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज करने के बाद गिरफ्तार किया था.

पुलिस की तरफ से मामले में पूरक आरोप पत्र दायर करने के कुछ दिनों बाद, कुंद्रा ने शनिवार को मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अदालत के सामने जमानत की अर्ज़ी दायर की थी. वकील प्रशांत पाटिल के जरिए दायर अर्जी में कुंद्रा ने दावा किया कि अभियोजन पक्ष को आज तक ऐसा कोई सबूत नहीं मिला जो कथित पोर्न फिल्म रैकेट में इस्तेमाल किए गए ऐप 'हॉटशॉट्स' को जुर्म से जोड़ सके.

वहीं, जांच एजेंसी के मुताबिक 'हॉटशॉट्स' ऐप का इस्तेमाल आरोपी व्यक्ति अश्लील सामग्री अपलोड करने और स्ट्रीमिंग के लिए कर रहे थे. कारोबारी ने दावा किया कि कथित संदिग्ध अश्लील सामग्री के फैसले में उनके 'एक्टिव तौर से' शामिल होने का कोई सबूत नहीं था.

ये भी पढ़ें: मोनालिसा ने मालदीव से शेयर कीं जबरदस्त Photos, चढ़ाया इंटरनेट का पारा

 कुंद्रा ने आरोप लगाया कि उन्हें मामले में झूठे तरीके से फंसाया गया, एफआईआर में उनका नाम भी नहीं था और मामले में प्रतिवादी (पुलिस) ने उन्हें घसीटा है. कारोबारी ने अर्जी में दावा किया कि उन्हें 'बलि का बकरा' बनाया जा रहा है और इसकी वजह जांच करने वाले अच्छी तरह जानते हैं.
(इनपुट- भाषा के साथ भी)

Zee Salaam Live TV: