ओम प्रकाश राजभर ने कहा- हमारी इन शर्तों को मानेगी भाजपा तो अभी भी हिमायत के लिए तैयार

भाजपा के पूर्व सहयोगी और योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री रहे राजभर ने आज यहां सत्ताधारी दल के प्रदेश सदर स्वंतत्र देव सिंह से मुलाकात की. उन्होंने हालांकि शुरू में इसे “शिष्टाचार भेंट” ही बताया था. 

ओम प्रकाश राजभर ने कहा- हमारी इन शर्तों को मानेगी भाजपा तो अभी भी हिमायत के लिए तैयार
ओम प्रकाश राजभर

लखनऊः उत्तर प्रदेश में छोटी पार्टियों के मोर्चे की रहनुमाई करने वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के सदर ओम प्रकाश राजभर ने मंगल को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अगर अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पिछड़े वर्ग के किसी नेता को मुख्यमंत्री उम्मीदवार पेश करे तो उनकी पार्टी भाजपा का साथ देगी. भाजपा के पूर्व सहयोगी और योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री रहे राजभर ने आज यहां सत्ताधारी दल के प्रदेश सदर स्वंतत्र देव सिंह से मुलाकात की. उन्होंने हालांकि शुरू में इसे “शिष्टाचार भेंट” ही बताया था. उन्होंने पहले भाजपा के साथ गठबंधन की संभावना को “जीरो” बताया था और दावा किया था कि उनकी पार्टी ही अगले साल चुनावों में भाजपा को “नेस्तनाबूद” करेगी. राजभर ने हालांकि बाद में सत्ताधारी दल के साथ गठबंधन की संभावना को खारिज नहीं किया वहीं भाजपा के प्रदेश नायब सदर दयाशंकर सिंह ने कहा कि दोनों दल 2022 का विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ेंगे.

इन शर्तों पर भाजपा से गठबंधन को तैयार 
छोटे दलों के साथ मिलकर हाल में भागीदारी संकल्प मोर्चा बनाने वाले राजभर ने कहा, “भाजपा के नेता सुभासपा से गठबंधन के लिए परेशान हैं और भाजपा को सरकार बनाने के लिए सुभासपा से गठबंधन जरूरी लग रहा है।” पूर्व मंत्री ने कहा कि भाजपा हमारी पिछड़े वर्ग की जातिवार जनगणना, सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट को लागू करने, महिलाओं के लिए 33 फीसदी आरक्षण, एक समान अनिवार्य व निःशुल्क शिक्षा, घरेलू बिजली का बिल माफी व पिछड़े वर्ग का मुख्यमंत्री बनाने की शर्त मानने का ऐलान कर दे तो हम भाजपा से गठबंधन पर विचार करेंगे. राजभर ने कहा कि भाजपा की केंद्र व राज्य में सरकार है, उनकी मांग को अमलीजामा पहनाने में भाजपा को कोई दिक्कत नही होना है. उन्होंने कहा कि भाजपा नेतृत्व जब तक उनकी मांग को पूरा करने के लिए आगे नही बढ़ता तब तक बात कैसे बनेगी?”

... तो फिर औवसी से तोड़ देंगे गठबंधन 
इससे पहले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष से मुलाकात के बाद राजभर ने कहा कि स्वतंत्र देव सिंह पिछड़े समाज के नेता और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष हैं. हमारी उनकी शिष्टाचार मुलाकात थी, हमारे उनके व्यक्तिगत संबंध हैं. कुछ काम था उस संबंध में हम गए थे और इसका सियासी मतलब कोई नहीं हैं. लोग इसका अर्थ का अनर्थ लगा रहे हैं. जब उनसे यह पूछा गया कि भाजपा से गठबंधन करने पर असदुद्दीन ओवैसी नाराज तो नही होंगे, उन्होंने कहा कि उनके फैसले से मुस्लिम समाज को भी लाभ मिलना है, ऐसे में ओवैसी के नाराज होने का सवाल ही पैदा नही होता. 

Zee Salaam Live Tv