इतवार को अमित शाह से मिल सकता है शाहीन बाग़ मुज़ाहिरीन का एक ग्रुप

शाहीन बाग़ में मुज़ाहिरा कर रहे मुज़ाहिरीन का एक ग्रुप मरकज़ी वज़ीरे दाख़िला अमित शाह से मिलने को राज़ी हो गया है जबकि कुछ मुज़ाहिरीन इस मुलाकात से खफ़ा नज़र आ रहे हैं. ये मुलाक़ात 16 फरवरी यानी इतवार के रोज़ हो सकती है

इतवार को अमित शाह से मिल सकता है शाहीन बाग़ मुज़ाहिरीन का एक ग्रुप

नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग़ में मुज़ाहिरा कर रहे मुज़ाहिरीन का एक ग्रुप मरकज़ी वज़ीरे दाख़िला अमित शाह से मिलने को राज़ी हो गया है जबकि कुछ मुज़ाहिरीन इस मुलाकात से खफ़ा नज़र आ रहे हैं. ये मुलाक़ात 16 फरवरी यानी इतवार के रोज़ हो सकती है. ज़राए का कहना है कि यह मुलाक़ात अमित शाह के दफ्तर या घर पर हो सकती है. 

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की समाअत के दौरान मुज़ाहिरीन से कहा था कि आप कभी भी इतने लंबे वक्त तक रास्ते को रोक कर बैठ जाएं ये ठीक नहीं है. आप मुज़ाहिरा करने के लिए कोई दीगर जगह को इंतेख़ाब कर सकते हैं, रास्ता रोक कर परेशान करने का हक किसी को नहीं है. इस मामले की अगली समाअत 17 फरवरी को होगी.

बता दें कि शाहीन बाग़ में गुज़िश्ता करीब दो माह से शहरियत तरमीमी कानून (CAA) मुज़ाहिरा जारी है और मुज़ाहिरीन की मांग है कि हुकूमत इस कानून को वापस ले, इस कानून को बनाने के लिए आईन की धज्जियां उड़ाई गई हैं और जब तक हुकूमत इस कानून को वापस नहीं लेती तब तक हम मुज़ाहिरा करते रहेंगे. इस मुज़ाहिरे की वजह से दिल्ली और नोएडा के लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि मुज़ाहिरे की वजह से दिल्ली और नोएडा को जोड़ने वाली अहम सड़क (कालिंदी कुज) को बंद किया हुआ है.